Menu

गुरमीत राम रहीम सिंह परिचय, आयु, जाति, विवाद, पत्नी, परिवार, जीवनी एवं अन्य जानकारी

गुरमीत राम रहीम

विज्ञापन

जीवन परिचय
वास्तविक नाम गुरमीत सिंह
उपनाम छोरा बब्बर शेर का, रॉकस्टार बाबा
व्यवसाय डेरा सच्चा सौदा प्रमुख
गुरु शाह सतनाम
शारीरिक संरचना
लम्बाई से० मी०- 180
मी०- 1.80
फीट इन्च- 5’ 11”
वजन/भार (लगभग)90 कि० ग्रा०
शारीरिक संरचना (लगभग)-छाती: 43 इंच
-कमर: 35 इंच
-मछलियाँ: 16 इंच
आँखों का रंग गहरा भूरा
बालों का रंग काला
व्यक्तिगत जीवन
जन्मतिथि 15 अगस्त 1967
आयु (2017 के अनुसार)50 वर्ष
जन्मस्थान गुरुसर मोदिया, श्री गंगानगर, राजस्थान, भारत
राशि सिंह
राष्ट्रीयता भारतीय
गृहनगर सिरसा, हरियाणा, भारत
स्कूल/विद्यालय नहीं पता
कॉलेज/महाविद्यालय/विश्वविद्यालयनहीं पता
शैक्षिक योग्यता कक्षा 9
पदार्पण फिल्म: MSG: The Messenger of God (2015)
MSG The Messenger of God (2015)
परिवार पिता - मगहर सिंह (ज़मींदार)
माता- नसीब कौर
भाई- लागू नहीं
बहन- लागू नहीं
धर्म सिख
जाति जाट (खत्री सिख)
पता शाह सतनाम जी धाम, सिरसा, हरियाणा, भारत
शौक/अभिरुचिगायन, क्रिकेट खेलना
विवाद • गुरमीत के ऊपर डेरे के महिला अनुयायियों के साथ बलात्कार का आरोप है।
• गुरमीत के ऊपर सिरसा के एक स्थानीय पत्रकार की हत्या का भी आरोप है। इस केस में फैसला आना अभी बाकी है।
• गुरमीत के ऊपर डेरे के 400 से ऊपर पुरुष अनुयायियों को नपुंसक बनाने का भी आरोप है।
• 2015 में, गुरमीत की फिल्म, "Messenger of God", जब सेंसर बोर्ड ने पास कर दी थी तो फिल्म के विरोध में तत्कालीन सेंसर बोर्ड की हेड लीला सैमसन ने अपना इस्तीफा दे दिया था।
• गुरमीत राम रहीम तब विवादों में आ गया था जब उसने सिखों के दशम गुरु, गुरु गोबिंद सिंह जी की पोशाक धारण कर ली थी। इसके परिणाम स्वरूप, पंजाब सरकार ने डेरे पर प्रतिबंध लगा दिया था।
गुरमीत राम रहीम गुरु गोबिंद सिंह के पोशाक में
• 25 अगस्त 2017 को, पंचकुला स्थित सी० बी० आई० की एक विशेष अदालत ने गुरमीत राम रहीम को सन 2002 में फाइल किए गए डेरे की दो साध्वियों के बलात्कार के आरोप में आरोपित घोषित किया।
• 28 अगस्त 2017 को, रोहतक जेल में सी० बी० आई० की एक विशेष अदालत के न्यायाधीश जगदीप सिंह ने गुरमीत राम रहीम को सन 2002 में फाइल किए गए डेरे की दो साध्वियों के बलात्कार के आरोप में 20 साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई।
पसंदीदा चीजें
पसंदीदा भोजन उबली हुई सब्जियाँ
प्रेम संबन्ध एवं अन्य
वैवाहिक स्थिति विवाहित
पत्नी हरजीत कौर
गुरमीत राम रहीम अपनी पत्नी हरजीत एवं अपने बच्चों के साथ
बच्चे पुत्र- जसमीत सिंह इन्सां
गुरमीत राम रहीम अपने पुत्र जसमीत सिंह इन्सां (मध्य) के साथ और साथ में विराट कोहली
पुत्रियाँ- चरणप्रीत कौर इन्सां, अमरप्रीत कौर इन्सां, हनीप्रीत कौर (गोद ली हुई)
गुरमीत राम रहीम अपनी पुत्रियों के साथ
धन संबंधित विवरण
संपत्ति (लगभग)5000 करोड़ रुपए

गुरमीत राम रहीम

विज्ञापन

गुरमीत राम रहीम सिंह से जुड़ी कुछ रोचक जानकारियाँ

  • क्या गुरमीत राम रहीम सिंह धूम्रपान करते हैं ?: हाँ
  • क्या गुरमीत राम रहीम सिंह मदिरापान करते हैं ?: हाँ
  • हालाँकि, गुरमीत का जन्म एक सिख परिवार में हुआ था, परन्तु बचपन से ही उसका झुकाव किसी विशेष धर्म की ओर नहीं था।
  • गुरमीत के पिता, मगहर सिंह, राजस्थान के श्री गंगानगर के एक बड़े ज़मींदार थे।
  • गुरमीत की माँ, नसीब कौर, एक अत्यंत अंधविश्वासी महिला थी।
  • जब गुरमीत अपने बचपन में था, तभी उसके पिता डेरा सच्चा सौदा के सम्पर्क में आ गए थे।
  • गुरमीत के पिता तत्कालीन डेरा प्रमुख शाह सतनाम के अनुयायी बन गए और उनके संदेश को फ़ैलाने लगे।
  • खालिस्तानी आतंकवादी गुरजंट सिंह भी गुरमीत राम रहीम का निकट दोस्त रहा है।
  • शीघ्र ही गुरमीत भी डेरा सच्चा सौदा का अनुयायी बन गया और डेरे का एक पूर्ण-कालिक सेवादार बन गया।
  • तत्कालीन डेरा प्रमुख शाह सतनाम ने एक आकस्मिक फैसले में गुरमीत को अपना उत्तराधिकारी नियुक्त कर दिया और उसका नाम हुज़ूर महाराज राम रहीम रख दिया।
  • 23 वर्ष की उम्र में गुरमीत राम रहीम डेरा सच्चा सौदा का तीसरा प्रमुख बना।
  • गुरमीत का रहन-सहन डेरे के पिछले प्रमुखों से काफी भिन्न रहा है। जहाँ अध्यात्म से जुड़े अन्य लोगों का रहन-सहन ‘सादा जीवन उच्च विचार’ के सिद्धांत पर रहा है; वहीँ गुरमीत राम रहीम का जीवन विलासिता से भरपूर रहा है। गुरमीत राम रहीम के चमकीले परिधानों का शौक किसी से भी छुपा नहीं है।
  • जब गुरमीत राम रहीम ने खुद को ब्रह्मचारी घोषित किया, तो उसकी दो पुत्रियां और एक पुत्र था।
  • डेरा प्रमुख के तौर पर राम रहीम हमेशा डेरे की महिला अनुयायियों से घिरा रहता था। बाद में, उसने हनीप्रीत नामक एक युवा महिला को अपनी तीसरी पुत्री के तौर पर गोद ले लिया था।

    गुरमीत राम रहीम हनीप्रीत के साथ

    गुरमीत राम रहीम हनीप्रीत के साथ

  • उसकी तीनों पुत्रियां खुद को ‘Papa’s Angels’ कहती हैं।
  • डेरे के अन्य अनुयायी उसे ‘पिताजी’ या ‘पापाजी’ पुकारते हैं।
  • राम रहीम की पुत्रियों ने MSG-series की फिल्मों में भी काम किया है।
  • गुरमीत का पुत्र, जसमीत सिंह इन्सां, पंजाब के एक कांग्रेसी विधायक की पुत्री, हुसनमीत कौर से विवाहित है।
  • सूत्रों के अनुसार, राम रहीम ने डेरे के अंदर एक खूफिया गुफा का निर्माण कर रखा था, जहाँ वो डेरे की महिला अनुयायियों का यौन-शोषण करता था। वह डेरे की महिलाओं को अपनी मर्जी से चुनता था और उन्हें अपना शरीर उसे सौंपने को कहता था। बाद में ये महिलाएं डेरे की दासी बनकर रह जाती थीं। इन महिलाओं की निगरानी के लिए उसने उन पुरुषों को नियुक्त कर रखा था जिन्हें उसने जबरन नपुंसक बना रखा था।
  • महिलाओं के यौन-शोषण को उसने “माफ़ी” का नाम दे रखा था।
  • उसकी हरकतों से तंग आकर डेरे की दो साध्वियों ने उसके खिलाफ मोर्चा खोल दिया। प्राथमिक युवती ने भारत के तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई को सन 2002 में एक अज्ञात पत्र लिखकर अपनी आपबीती सुनाई। पत्र का संज्ञान लेते हुए सी० बी० आई० ने राम रहीम के खिलाफ एक FIR दर्ज कर दी। युवती ने सी० बी० आई० की अदालत को बताया कि एक बार राम रहीम ने उसे 28/29 अगस्त 1999 की रात को माफ़ी देने के लिए अपनी गुफा में बुलाया। जब वो गुफा में गई तो राम रहीम ने उसके साथ बलात्कार किया। घटना के बाद युवती को राम रहीम की असलियत का अंदाज़ा हुआ। बाद में उसने उस घटना के बारे में अपने भाई को बताया। युवती के भाई ने डेरे से बगावत कर दी और किसी तरह से युवती को लेकर वहां से भागने में कामयाब रहा। बाद में युवती के भाई की हत्या हो गई।
  • दूसरी शिकायतकर्ता युवती डेरे में ही पली-बढ़ी थी। एक दिन जब वह गुफा की निगरानी कर रही थी, तब राम रहीम ने उसे गुफा के अंदर बुलाया। जब वह अंदर पहुंची तो उसने देखा कि राम रहीम बिस्तर पर पूर्णतया निर्वस्त्र लेटा हुआ है। यह देखकर वह अचंभित रह गई। उसने वहां से भागने का प्रयास किया किन्तु विफल रही। कोई भी उसकी सहायता के लिए आगे नहीं आया। राम रहीम ने उसके साथ भी बलात्कार को अंजाम दिया। बाद में वह युवती भी किसी तरह डेरे से भागने में कामयाब रही।
  • सूत्रों के अनुसार, पूरी दुनिया में डेरा के 5 करोड़ से भी अधिक अनुयायी हैं।
  • 25 अगस्त 2017 को पंचकुला स्थित सी० बी० आई० की एक विशेष अदालत ने राम रहीम को बलात्कार के एक केस में आरोपित घोषित कर दिया। अदालत के फैसले के बाद डेरा के अनुयायी बेकाबू हो गए जिसकी वजह से पंचकुला एवं भारत के अन्य शहरों में एक भयावह हिंसा फ़ैल गई। पंचकुला में उग्र भीड़ ने निजी एवं सरकारी सम्पत्ति को अत्यधिक नुकसान पहुँचाया। उग्र भीड़ ने 200 से अधिक वाहनों को आग के हवाले कर दिया। हिंसा में 35 से अधिक जानें गईं।

विज्ञापन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *