Menu

Mahavir Singh Phogat Biography in Hindi | महावीर सिंह फोगाट जीवन परिचय

महावीर सिंह फोगाट

विज्ञापन

जीवन परिचय
वास्तविक नाम महावीर सिंह फोगाट
उपनाम फोगाट जी
व्यवसाय पूर्व भारतीय पहलवान
शारीरिक संरचना
लम्बाई (लगभग)से० मी०- 170
मी०- 1.70
फीट इन्च- 5’ 7”
वजन/भार (लगभग)90 कि० ग्रा०
शारीरिक संरचना (लगभग)-छाती: 44 इंच
-कमर: 38 इंच
-Biceps: 18 इंच
आँखों का रंग काला
बालों का रंग सफेद
व्यक्तिगत जीवन
जन्मतिथि ज्ञात नहीं
आयु (2017 के अनुसार)ज्ञात नहीं
जन्मस्थान बलाली गांव, चरखी दादरी जिला, हरियाणा, भारत
राशि कन्या
राष्ट्रीयता भारतीय
गृहनगर बलाली गांव, चरखी दादरी जिला, हरियाणा, भारत
स्कूल/विद्यालय ज्ञात नहीं
महाविद्यालय/विश्वविद्यालयज्ञात नहीं
शैक्षिक योग्यता ज्ञात नहीं
परिवार पिता - ज्ञात नहीं
माता- ञाना देवी
महावीर सिंह फोगाट की माँ ञाना देवी
भाई- स्वर्गीय राजपाल सिंह फोगाट, सज्जन फोगाट
महावीर सिंह फोगाट की माँ और भाई सज्जन फोगाट और उनकी पत्नी
बहन- ज्ञात नहीं
धर्म हिन्दू
पसंदीदा चीजें
पसंदीदा भोजन दूध और दुग्ध से बनने उत्पाद
प्रेम संबन्ध एवं अन्य जानकारियां
वैवाहिक स्थिति विवाहित
गर्लफ्रेंड व अन्य मामले ज्ञात नहीं
पत्नीदया कौर
महावीर सिंह फोगाट अपनी पत्नी के साथ
बच्चे बेटी - गीता फोगट, बबिता कुमारी, रितु और संगीता
बेटा - दुष्यंत (2003 में जन्म)
महावीर सिंह फोगाट अपने परिवार के साथ

महावीर सिंह फोगाट

विज्ञापन

महावीर सिंह फोगाट से जुड़ी कुछ रोचक जानकारियाँ

  • क्या महावीर सिंह फोगाट धूम्रपान करते हैं ? ज्ञात नहीं
  • क्या महावीर सिंह फोगाट शराब पीते हैं ? ज्ञात नहीं
  • फोगाट पूर्व भारतीय पहलवान हैं, और भारत की राष्ट्रीय कुश्ती टीम के वरिष्ठ ओलंपिक कोच हैं।
  • उन्होंने राष्ट्रमंडल खेलों के लिए अपनी बेटियों को प्रशिक्षण देने के लिए अपनी नौकरी छोड़ दी। यह उनकी कड़ी मेहनत का फल था कि उनकी बेटी गीता ने राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीता और वर्ष 2010 में दिल्ली में राष्ट्रमंडल खेलों में बबिता ने रजत पदक जीता।
  • वर्ष 2012 में, उनकी बेटी गीता फोगाट ने विश्व चैंपियनशिप में एक कांस्य जीत कर उस वर्ष होने वाले ओलंपिक में अपनी जगह बनाई और इस तरह वह ओलंपिक में भाग लेने वाली पहली महिला पहलवान बन गईं।
  • वह वक्त के बड़े पाबंद हैं, जैसे कि जब उनकी बेटियां चार बजे के समय मैदान पर नहीं होती थी, तो वह उन्हें गंभीर दंड दिया करते थे।
  • उन्होंने अपनी बेटियों को स्थानीय कुश्ती मैचों में हिस्सा लेने के लिए मजबूर किया, और यहां तक कि उनके प्रशिक्षण के लिए उच्च-तकनीक जिम उपकरणों के साथ एक व्यायामशाला भी बनवाई।
  • भारतीय कुश्ती में उनके योगदान के कारण उन्हें द्रोणाचार्य पुरस्कार से सम्मानित किया गया।    महावीर सिंह फोगाट द्रोणाचार्य पुरस्कार प्राप्त करते हुए
  • उनकी पत्नी दया कौर लगातार तीन बार अपने गांव की सरपंच बन चुकी हैं।
  • फोगाट के संघर्षपूण जीवन के बारे में वर्ष 2016 में आमिर खान द्वारा एक फिल्म “दंगल” बनाई गई।  दंगल
  • 21 दिसंबर 2016 को चंडीगढ़ प्रेस क्लब में “अखाड़ा” नाम से एक पुस्तक जारी की गई थी।  इस पुस्तक में पूर्व पहलवान महावीर सिंह फाोगट के जीवन के  बारे में बताया गया है।    आखाड़ा
विज्ञापन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *