Menu

Ranjan Bhattacharya Biography in Hindi | रंजन भट्टाचार्य जीवन परिचय

रंजन भट्टाचार्य

विज्ञापन

जीवन परिचय
वास्तविक नाम रंजन किशोर भट्टाचार्य
उपनाम रंजन दा
व्यवसाय व्यवसायी
प्रसिद्ध हैं अटल बिहारी वाजपेयी के सौतेले दामाद होने के नाते
शारीरिक संरचना
लम्बाई (लगभग)से० मी०- 170
मी०- 1.70
फीट इन्च- 5' 9"
वजन/भार (लगभग)70 कि० ग्रा०
आँखों का रंग काला
बालों का रंग काला
व्यक्तिगत जीवन
जन्मतिथि 1959
आयु (2018 के अनुसार)59 वर्ष
जन्मस्थान मंडी, हिमाचल प्रदेश, भारत
राष्ट्रीयता भारतीय
गृहनगर पटना, भारत
स्कूल/विद्यालय सेंट एडवर्ड स्कूल, शिमला
सेंट कोलंबस स्कूल, दिल्ली
सेंट माइकल हाई स्कूल, पटना
कॉलेज/विश्वविद्यालय/महाविद्यालय श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स, दिल्ली
शैक्षणिक योग्यता वर्ष 1979 में, अर्थशास्त्र ऑनर्स में स्नातक
वर्ष 1981 में, ओबेरॉय स्कूल ऑफ होटल मैनेजमेंट से होटल मैनेजमेंट में डिप्लोमा
जाति बंगाली ब्राह्मण
धर्म हिन्दू
शौक/अभिरुचिपुस्तकें पढ़ना और यात्रा करना
राजनीतिक पार्टी भारतीय जनता पार्टी
विवाद वर्ष 2012 में, जब अरविंद केजरीवाल की टीम ने 'सरकारी दामाद' कहकर रंजन पर आरोप लगाते हुए कहा कि "उद्योगपतियों और राजनेताओं के बीच संबंध भारत में मुद्रास्फीति (मूल्य वृद्धि) का मुख्य कारण है।" जिसके चलते उन्होंने रंजन और लॉबीस्ट नीरा राडिया के बीच वार्तालाप की ऑडियो रिकॉर्डिंग भी की।
प्रेम संबन्ध एवं अन्य मामलें
वैवाहिक स्थिति विवाहित
विवाह तिथि वर्ष 1983
गर्लफ्रेंड एवं अन्य मामले नमिता भट्टाचार्य (1976-1983)
परिवार
पत्नी नमिता भट्टाचार्य (पूर्व शिक्षक)
रंजन भट्टाचार्य अपनी पत्नी के साथ
बच्चे बेटा - कोई नहीं
बेटी - निहारिका
रंजन भट्टाचार्य अपनी बेटी और पत्नी के साथ
माता-पिता पिता - नाम ज्ञात नहीं (चिकित्सक)
माता - नाम ज्ञात नहीं (चिकित्सक)
भाई-बहन ज्ञात नहीं

रंजन भट्टाचार्य

विज्ञापन

रंजन भट्टाचार्य से जुड़ी कुछ रोचक जानकारियाँ

  • क्या रंजन भट्टाचार्य धूम्रपान करते हैं ? हाँ

    रंजन भट्टाचार्य धूम्रपान और शराब पीते हुए

    रंजन भट्टाचार्य धूम्रपान और शराब पीते हुए

  • क्या रंजन भट्टाचार्य शराब पीते हैं ? हाँ
  • रंजन का जन्म हिमाचल के एक धनी परिवार में हुआ था।
  • उन्हें क्यूबा सिगार, रेड वाइन के सेवन और ज़्यादा देर तक गाड़ी चलाने से काफी कमजोरी महसूस होती है।
  • वर्ष 1976 में, कॉलेज के दिनों में वह नमिता भट्टाचार्य के करीब आने से काफी लोकप्रिय हुए, जिसके बाद उन्होंने सात साल बाद शादी कर ली।
  • उन्होंने बहुत ही कम उम्र में अपने माता-पिता को खो दिया था, जिसके कारण वह नमिता और ए.बी. वाजपेयी के करीब आए। जिसके बाद वह भी ए. बी. वाजपेयी की तरह अटल बिहारी वाजपेयी को अपने पिता के रूप में “बापजी” की तरह पुकारने लगे जैसा ए.बी. पुकारती थी।

    रंजन भट्टाचार्य अटल बिहारी वाजपेयी के साथ

    रंजन भट्टाचार्य अटल बिहारी वाजपेयी के साथ

  • एक साक्षात्कार में, उन्होंने कहा कि, “शुरुआत में जब वह अटल बिहारी वाजपेयी से मिले, तब अटलजी उनका नाम भूल जाते थे और उन्हें बैनर्जी, मुख़र्जी और यहां तक की बंगाली बाबू के नाम से भी संबोधित किया करते थे।
  • उन्होंने ओबेरॉय समूह के एक होटल से अपने करियर की शुरुआत की और 24 साल की उम्र में श्रीनगर के ओबेरॉय पैलेस में जनरल मैनेजर बने।
  • वर्ष 1987 में, उन्होंने अपना काम छोड़ दिया और एक उद्यमी बन गए। उसके बाद उन्होंने मनाली में एक होटल बनाया और ऑर्किड रिसॉर्ट्स प्राइवेट लिमिटेड के बैनर के तहत इसे चलाया।
  • वर्ष 1993 में, पांच साल बाद उन्होंने उस संपत्ति को राज चोपड़ा (अध्यक्ष, सक्षम ऑटोमोबाइल के प्रबंध निदेशक) को बेच दिया।
  • मई 1996 में, उनका पूरा जीवन बदल गया जब वाजपेयी सिर्फ 13 दिनों के लिए प्रधानमंत्री बने थे। प्रधानमंत्री के कार्यकाल के दौरान, वाजपेयी ने कुछ नियुक्तियां की, जहां उन्होंने प्रधानमंत्री कार्यालय में रंजन को ओएसडी (विशेष कर्तव्य अधिकारी) के रूप में नियुक्त किया। यह मामला उस समय काफी सुर्ख़ियों में रहा (राजनीति में पारिवारिक प्राथमिकताओं) था, जिसे जल्द ही भूल गए थे।
  • वर्ष 1997 में, उन्होंने प्रतिभा विपणन शुरू किया (एक फर्म जो अमेरिका स्थित कार्लसन आतिथ्य के सभी ब्रांडों को आरक्षण सेवाएं प्रदान करती है)। इसके बाद, उन्हें देश विकास और प्रबंधन सेवाओं (एक संयुक्त उद्यम जिसमें कार्लसन और चाणक्य होटल शामिल थे, आठ स्थानों में बजट होटल को बढ़ावा देने) के एक प्रबंधक के रूप में चुना गया।
  • वर्ष 1999 से 2004 तक, जब वाजपेयी देश के प्रधानमंत्री थे, तब रंजन के पास कोई आधिकारिक सीट नहीं थी, लेकिन उन्हें अभी-भी दिल्ली में व्यापार और राजनीतिक हलकों में एक उद्यमी के रूप में जाना जाता था।
  • उन्होंने रिलायंस इन्फोकॉम परियोजना की शुरुआत की, लेकिन जिसका सारा श्रेय प्रमोद महाजन को गलत तरीके से दिया गया था।
  • रंजन को मलेशियाई फर्मों के द्वारा बहुमूल्य एनएचएआई (भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण) अनुबंध प्राप्त था।
विज्ञापन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *