Menu

Amjad Khan Biography in Hindi | अमजद खान जीवन परिचय

अमजद खान

विज्ञापन

जीवन परिचय
वास्तविक नाम अमजद जकारिया खान
व्यवसाय अभिनेता और निर्देशक
प्रसिद्ध भूमिका गब्बर सिंह (फिल्म- शोले)
शारीरिक संरचना
लम्बाई से० मी०- 178
मी०- 1.78
फीट इन्च- 5’ 10”
वजन/भार (लगभग)120 कि० ग्रा०
आँखों का रंग भूरा
बालों का रंग काला
व्यक्तिगत जीवन
जन्मतिथि 12 नवंबर 1940
जन्मस्थान पेशावर, ब्रिटिश भारत (अब पाकिस्तान)
मृत्यु तिथि 27 जुलाई 1992
मृत्यु स्थान मुंबई, भारत
आयु (मृत्यु के समय)51 वर्ष
मृत्यु कारण दिल का दौरा (एक गंभीर सड़क दुर्घटना के बाद)
राशि वृश्चिक
राष्ट्रीयता भारतीय
गृहनगर मुंबई, भारत
स्कूल/विद्यालय सेंट एंड्रयूज हाई स्कूल, बांद्रा, बॉम्बे (अब मुंबई)
महाविद्यालय/विश्वविद्यालयआर.डी नेशनल महाविद्यालय, मुम्बई
शैक्षिक योग्यता दर्शनशास्त्र में स्नातकोत्तर
डेब्यू एक बाल कलाकार के रूप में :- नाज़नीन (1951)
एक अभिनेता के रूप में :- हिंदुस्तान की कसम (1973)
हिंदुस्तान की कसम (1973)
एक सहायक निर्देशक के रूप में :- लव एंड गॉड ( वर्ष 1963 में निर्मित, वर्ष 1986 में जारी)
लव एंड गॉड
एक निर्देशक के रूप में :- चोर पुलिस (1983)
चोर पुलिस (1983)
प्रसिद्ध संवाद• “कितने आदमी थे ?"
• “अब तेरा क्या होगा कालिया ?"
• “होली कब है, कब है होली ?"
• “जो डर गया, समझो मर गया"
• “ये हाथ हम को दे दे, ठाकुर"
परिवार पिता - जयंत उर्फ जकारिया खान (अभिनेता)
अमजद खान अपने पिता (बीच में) और भाई इम्तियाज़ के साथ
माता- कमर
भाई- इम्तियाज़ खान और इनायत खान
अमजद खान अपनी माँ कमर और भाई इम्तियाज़ के साथ
बहन- कोई नहीं
धर्म इस्लाम
जाति पश्तून
शौक/अभिरुचिड्राइविंग करना, संगीत सुनना, बैडमिंटन खेलना
पसंदीदा चीजें
पसंदीदा संगीतकार आर.डी बर्मन
पसंदीदा अभिनेता अमिताभ बच्चन और अमरीश पुरी
पसंदीदा अभिनेत्री मधुबाला
पसंदीदा गायक आर.डी बर्मन और किशोर कुमार
प्रेम संबन्ध एवं अन्य जानकारियां
वैवाहिक स्थिति विवाहित
विवाह तिथि 17 अगस्त 1972
गर्लफ्रेंड व अन्य मामले शहला खान
पत्नी शहला खान
अमजद खान अपनी पत्नी के साथ
बच्चेबेटा- शादाब खान, सीमाब खान
बेटी- अहलम खान
अमजद खान अपनी पत्नी और बच्चों के साथ

अमजद खान

विज्ञापन

अमजद खान से जुड़ी कुछ रोचक जानकारियाँ

  • क्या अमजद खान धूम्रपान करते थे ? हाँ अमजद खान धूम्रपान करते हुए
  • क्या अमजद खान शराब पीते थे ? नहीं
  • उनका जन्म पाकिस्तान के पेशावर में महान अभिनेता जयंत के घर हुआ था।
  • उनका परिवार अफगानी पश्तून वंश से संबंधित था।
  • फिल्मों में आने से पहले, अमजद एक रंगमंच कलाकार थे।
  • जब वह केवल 11 वर्ष के थे, तब उन्होंने फिल्म नाज़नीन (1951) में एक बाल अभिनेता के रूप में अभिनय किया और उसके बाद अमजद ने कुछ फिल्मों में अपने पिता जयंत के साथ छोटी भूमिकाओं में अभिनय किया।
  • कॉलेज के दिनों में अमजद छात्र संघ के महासचिव थे।
  • वर्ष 1972 में, उन्होंने अपने बचपन की दोस्त शहला से शादी कर ली। परन्तु वह शादी सम्पूर्ण नहीं हुई, क्योंकि शहला के पिता अख्तर-उल-इमान (एक प्रसिद्ध लेखक) चाहते थे कि उन्हें आगे पढ़ना चाहिए।
  • वर्ष 1975 में, उन्हें फिल्म शोले में गब्बर सिंह की भूमिका की पेशकश की गई थी। शुरुआत में उन्हें जावेद अख्तर द्वारा भारी आवाज़ के लिए खारिज कर दिया गया था। हालांकि सलीम उन लेखकों में से एक थे जिन्होंने गब्बर की भूमिका के लिए काफी जोर दिया और आखिर में उन्होंने गब्बर सिंह की भूमिका अदा की।
  • जब अमजद खान को गब्बर सिंह की भूमिका की पेशकश की गई थी, तब वह केवल 35 साल के थे।
  • उन्होंने शोले फिल्म को तब साइन किया था, जब उनके पहले बेटे शादाब का जन्म (20 सितंबर 1973) हुआ था।
  • गब्बर सिंह की भूमिका के लिए, अमजद ने तरुण कुमार भादुरी, जया भादुरी के पिता द्वारा लिखी गई, किताब “अभिशप्त चंबल” को पढ़ा, जो चम्बल के डाकू पर आधारित थी। अभिशप्त चंबल
  • फिल्म शोले के रिलीज़ के बाद, अमजद खान बॉलीवुड में काफी लोकप्रिय अभिनेता बन गए थे।
  • गब्बर सिंह के किरदार को भारतीय सिनेमा के पहले विशुद्ध खलनायक के रूप में माना जाता है। गब्बर सिंह
  • उनके संवाद के एक अलग अंदाज़ ने बॉलीवुड में एक मिसाल कायम की, उनके अंदाज को वर्तमान में कई कार्यक्रमों में इस्तेमाल किया जाता है। गब्बर सिंह 1
  • फिल्म शोले एक ब्लॉकबस्टर फिल्म थी, हालांकि इसमें संजीव कुमार, धर्मेंद्र, हेमा मालिनी और अमिताभ बच्चन सहित कई सुपरस्टारों ने महत्वपूर्ण भूमिकाएं अदा की थीं, परन्तु अमजद खान ने अपने अद्भुत और अपरंपरागत संवाद के कारण फिल्म की लोकप्रियता अपने नाम की। अमजद खान शोले के सुपरस्टारों के साथ
  • अमजद खान शाले के सहायक निर्देशक भी थे और साथ ही उन्होंने दूसरे यूनिट को भी संभाला था।
  • यहां तक कि आज भी लोग उनकी सवांद अदायगी को याद करते हैं।
  • शोले की सफलता के बाद, वर्ष 1970, वर्ष 1980 और वर्ष 1990 के दशक में अमजद खान ने कई हिंदी फिल्मों में नकारात्मक भूमिकाएं अदा की।
  • उन्होंने शतरंज के खिलाडी (1977) फिल्म के लिए एक गीत को डब किया था। उन्होंने उस फिल्म में अवध के नवाब वाजिद अली शाह की अपरंपरागत भूमिका निभाई थी।
  • नकारात्मक भूमिकाएं करने के अलावा, उन्होंने कई फिल्मों में सकारात्मक भूमिकाएं निभाईं जैसे कि :- याराना (1981), लावारिस (1981), आदि।
  • वर्ष 1988 में, उन्होंने मर्चेंट-आइवरी अंग्रेज़ी फिल्म- The Perfect Murder में एक अंडरवर्ल्ड डॉन की भूमिका निभाई थी।
  • उन्होंने कई फिल्मों जैसे लव स्टोरी, कुर्बानी, चमेली की शादी, इत्यादि में उत्कृष्ट भूमिकाएं निभाईं थी।
  • उन्होंने वर्ष 1991 की फ़िल्म- रामगढ़ के शोले में गब्बर सिंह की अपनी भूमिका को दोबारा जीवंत किया।
  • अमजद खान ने “अभिनेता गिल्ड एसोसिएशन” के अध्यक्ष के रूप में भी कार्य किया था।
  • अमजद खान कभी शराब नहीं पीते थे। हालांकि, आर. डी. बर्मन जैसे उनके दोस्त अक्सर उनके घर पर व्हिस्की की बोतलों के साथ जाते थे। अमजद खान आर. डी. बर्मन के साथ
  • अपने करियर के दौरान, उन्होंने कभी भी गुस्से में अपना संतुलन नहीं खोया।
  • वह पशुओं के प्रति बहुत दयालु और स्नेही थे, जिसके चलते उनके पास दो पालतू कुत्ते थे। अमजद खान अपने कुत्तों के साथ
  • अमजद खान ने ब्रिटानिया ग्लूकोज बिस्किट के लिए एक विज्ञापन किया था। अमजद खान ब्रिटानिया ग्लूकोज बिस्किट के विज्ञापन में
  • वर्ष 1976 में, फिल्म “द ग्रेट गैंबलर” की शूटिंग के दौरान, अमजद के साथ मुंबई-गोवा राजमार्ग पर एक गंभीर सड़क दुर्घटना हो गई थी, जिसमें उनके फेफड़े और पसलियों में चोटें आई थीं। उन गंभीर चोटों के कारण वह कोमा में चले गए। सौभाग्य से, वह जल्द ही ठीक हो गए। हालांकि, ऑपरेशन के दौरान उनको दी जाने वाली दवाईयों ने उन्हें बहुत मोटा कर दिया था, जिससे उनकी स्वास्थ्य की जटिलताएं और बढ़ती गईं। अमजद खान मोटापे में
  • अमजद का बढ़ते वजन के कारण 51 वर्ष की आयु में दिल का दौरा पड़ने से 27 जुलाई 1992 को निधन हो गया था।
विज्ञापन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *