Menu

Anuradha Paudwal Biography in hindi | अनुराधा पौडवाल जीवन परिचय

अनुराधा पौडवाल

विज्ञापन

जीवन परिचय
वास्तविक नाम अल्का नादकर्णी
उपनाम टी-सीरीज क्वीन
व्यवसाय पार्श्व गायिका
शारीरिक संरचना
लम्बाई (लगभग)से० मी०- 165
मी०- 1.65
फीट इन्च- 5’ 5”
वजन/भार (लगभग)70 कि० ग्रा०
आँखों का रंग गहरा भूरा
बालों का रंग काला
करियर
डेब्यू बॉलीवुड फिल्म (गायक) : अभिमान (1973) गीत - श्लोक (संस्कृत)
मराठी फिल्म (गायक) : गीत "यशोदा" (संगीत दिया है दत्ता मुख़र्जी)
एल्बम : "भाव गीत" (मराठी एल्बम)
पुरस्कार/सम्मान वर्ष 1986 में : गीत "मेरे मैन बाजो मृदंग" के लिए सर्वश्रेष्ठ प्लेबैक सिंगर (महिला) के रूप में फ़िल्मफेयर अवॉर्ड।
वर्ष 1991 में : 'नज़र के सामने' (फिल्म, आशिकी) और 'दिल है की मानता नहीं' (फिल्म, दिल है की मानता नहीं) गीतों के लिए सर्वश्रेष्ठ प्लेबैक सिंगर (मादा) के रूप में दो फिल्मफेयर पुरस्कार।
वर्ष 1993 में : गीत "धक-धक करने लगा" (फिल्म बेटा) के लिए सर्वश्रेष्ठ प्लेबैक सिंगर (महिला) के रूप में फ़िल्मफेयर अवॉर्ड।
वर्ष 2004 में : मध्य प्रदेश सरकार द्वारा 'महाकाल पुरस्कार' से सम्मान।
वर्ष 2010 में : "लता मंगेशकर पुरस्कार" से सम्मानित किया गया।
वर्ष 2011 में : "मदर टेरेसा अवॉर्ड" से सम्मानित किया गया।
वर्ष 2016 में : डी लिट की उपाधि से सम्मानित किया गया।
वर्ष 2017 में : भारत सरकार द्वारा पद्मश्री से सम्मानित किया गया।
अनुराधा पौडवाल पद्मश्री ग्रहण करते हुए
व्यक्तिगत जीवन
जन्मतिथि 27 अक्टूबर 1952
आयु (वर्ष 2018 के अनुसार)66 वर्ष लगभग
जन्मस्थान करवार, बॉम्बे राज्य (अब कर्नाटक), भारत
राशि वृश्चिक
राष्ट्रीयता भारतीय
गृहनगर मुंबई, भारत
धर्म हिन्दू
स्कूल ज्ञात नहीं
कॉलेज सेंट जेवियर्स कॉलेज, मुंबई
शैक्षणिक योग्यता ज्ञात नहीं
पता एक डुप्लेक्स, खार, पश्चिमी मुंबई
शौक/अभिरुचि पुस्तकें पढ़ना और यात्रा करना
विवाद वह विवादों में तब आईं, जब उन्होंने लोकप्रिय पार्श्व गायिका लता मंगेशकर को चुनौती दी और दावा किया कि "उन्होंने एक दिन में अधिकतम संख्या में गाने रिकॉर्ड किए हैं।"
प्रेम संबन्ध एवं अन्य जानकारी
वैवाहिक स्थिति विवाहित
विवाह तिथि वर्ष 1969
परिवार
पति अरुण पौडवाल (संगीतकार)
अरुण पौडवाल
बच्चे बेटा - आदित्य पौडवाल
बेटी - 2
• कविता पौडवाल
अनुराधा अपने बच्चों के साथ
माता-पिता पिता - नाम ज्ञात नहीं
माता - नाम ज्ञात नहीं
पसंदीदा चीजें
पसंदीदा गायक लता मंगेशकर, किशोर कुमार

अनुराधा पौडवाल

अनुराधा पौडवाल से जुड़ी कुछ रोचक जानकारियाँ

  • क्या अनुराधा पौडवाल धूम्रपान करती हैं ? नहीं
  • क्या अनुराधा पौडवाल शराब पीती हैं ? नहीं
  • उनका जन्म कर्नाटक के उत्तरा कन्नड़ करवार में एक कोंकणी परिवार में हुआ था। हालांकि, उनका पालन-पोषण मुंबई में हुआ था।
  • एक बार अनुराधा ने कहा कि “संगीत के प्रति लगाव लता जी के गीत से हुई थी, जिसे उन्होंने रेडियो पर सुना था।”
  • जब वह चौथी कक्षा में थी, तब उन्होंने सपने में लता जी की आवाज़ को लाइव सुना था।
  • एक साक्षात्कार में, अनुराधा ने खुलासा किया कि “जब वह पैदा हुई थी तब उनकी आवाज बहुत थी।
  • बचपन में, वह निमोनिया की बीमारी से ग्रस्त हो गई थी। उस समय उन्होंने लगभग पूरी तरह से अपनी आवाज़ को खो दिया था और 40 दिनों तक बिस्तर पर रही थीं। उन 40 दिनों में, उन्होंने सिर्फ एक आवाज सुनी थी और वह थी लता जी की।
  • जब अनुराधा को अस्पताल में भर्ती कराया गया, तब उनके चाचा (अंकल) ने उन्हें लता जी की आवाज़ में भगवत गीता की रिकॉर्डिंग भेंट की। उसके बाद अनुराधा की सेहत में काफी सुधार हुआ और वह ठीक हो गईं। जिसके बाद, उन्होंने अपनी आवाज़ की मोल्डिंग करनी शुरू कर दी।
  • लता मंगेशकर अनुराधा पौडवाल के लिए भगवान से कम नहीं है, क्योंकि वह अपनी सभी सफलताओं का श्रेय लता जी को ही देती हैं। उनका कहना है कि “मैंने कई गुरुओं के सानिध्य में संगीत सीखा। लेकिन, लता जी की आवाज़ मेरे लिए एक प्रेरणा स्त्रोत थी। जिसने एक संस्थान के रूप में मेरा मार्गदर्शन किया।”
  • अनुराधा ने सक्रिय रूप से अपने स्कूल और कॉलेज के कार्यक्रमों में भाग लेना शुरू किया और कई पुरस्कार जीते। जिसके चलते उनका पहला पुरस्कार लता जी के मीरा भजनों में से एक गीत के लिए था।
  • इस तरह एक दिन स्कूल समारोह के दौरान, जब अनुराधा ने अपनी भारी आवाज के साथ प्रस्तुति दी, तब समारोह के जजों ने अनुराधा पर टिप्पणी करते हुए कहा कि “तुम्हारी आवाज बहुत भारी है और तुम सुरीले संगीत के लिए उपर्युक्त नहीं हो।” और अयोग्य घोषित कर दिया गया।
  • किशोरावस्था के दौरान, वह अरुण (एक संगीत संगीतकार) के प्यार में पड़ गईं। शुरुआत में, उनके पिता ने अरुण के फिल्म उद्योग के संबंधों के कारण अनुराधा की शादी को मंजूरी नहीं दी। उनके पिता का मानना था कि “वह एक प्रतिष्ठित परिवार की लड़की है, जो शो बिजनेस का हिस्सा नहीं बन सकती है।”
  • जब अनुराधा ने अरुण से शादी की, तो वह 17 वर्ष की थी और अरुण 27 वर्ष के थे।
  • उनके पति ने हमेशा उन्हें गायन के लिए प्रोत्साहित किया।
  • एक बार, अरुण ने अनुराधा को लता जी (लता मंगेशकर) की एक रिकॉर्डिंग दिखाने ले गए। जहां अनुराधा ने लता जी को बड़ी सावधानी से सुना और वहीं के एक कार्यक्रम ‘युवा वाणी’ में एक गीत गाया। जो बहुत ही लोकप्रिय मराठी कार्यक्रम से संबंधित था, जिसे बहुत से लोगों द्वारा सुना जा चुका था। लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल, हृदयनाथ मंगेशकर, इत्यादि कई शीर्ष संगीतकारों ने इस गीत को सुना और यह पता लगाने के लिए रेडियो स्टेशन पर फोन कर के पूछने लगे कि यह गीत कौन गा रहा है। लेकिन, उन्हें यह पता लगाने में थोड़ा समय लगा, यह गीत तो अल्का नादकर्णी (अनुराधा पौडवाल का पहला नाम) गा रहीं थी। तभी सभी ने अनुराधा पौडवाल को लॉन्च करने की पेशकश की, लेकिन उस समय वह संगीत के क्षेत्र में आने के इच्छुक नहीं थी।
  • महान संगीतकार एस. डी. बर्मन ही पहले व्यक्ति थे, जिन्होंने वर्ष 1973 की हिन्दी फिल्म “अभिमान” (अमिताभ बच्चन और जया भादुरी अभिनीत) में अनुराधा के एक गीत (वास्तव में, एक शिव श्लोक) को पेश किया था।
  • जब अभिमान फिल्म को रिलीज़ किया गया था, तब अनुराधा के परिवार के 25 से 30 सद्स्य, दोस्त और पड़ोसियों ने प्लाजा थिएटर में अनुराधा को सुनने के लिए आए।
  • अनुराधा पौडवाल का पहला एकल गीत फिल्म आप बीती (शशि कपूर और हेमा मालिनी अभिनीत) में था।
  • जब अनुराधा पौडवाल को फिल्म उत्सव (1984) के गीत “मेरा मन बजे मृदंग …” के लिए फिल्म पुरस्कार मिला, तब उन्हें काफी हैरानी हुई। उस समय वह फिल्म हीरो के गीत “तू मेरा जानू है ..” के लिए पुरस्कार की उम्मीद कर रही थी।

विज्ञापन
  • सुभाष घई की फिल्म हीरो (जैकी श्रॉफ और मीनाक्षी सेशदरी अभिनीत) में उन्होंने ‘तु मेरा जानू है …’ गीत गाया, जो एक सुपरहिट गीत बन गया। शुरुआत में, यह गीत लता जी ने गाना था, हालांकि, कुछ कारणों से उस गीत को अनुराधा ने गाया।
  • सुभाष घई की अधिकांश फिल्मों में, अनुराधा पौडवाल ही गायक थी। उन्होंने गायत्री मंत्र भी गाया है, जो आज भी मुक्ता आर्ट का एक प्रतीक है।
  • वर्ष 1980 के दशक के मध्य में, अनुराधा पौडवाल ने नदीम-श्रवण के साथ 23 गाने रिकॉर्ड किए। बाद में, महेश भट्ट द्वारा निर्देशित तीन फ़िल्में आशिकी, दिल है की मानता नहीं और सड़क में गीत गाए।
  • वर्ष 1990 के दशक में, उन्होंने फिल्म में माधुरी दीक्षित को अपनी आवाज दी, जो उस समय सुपरस्टार बनने वाली थीं। इसलिए उन्होंने “बहुत प्यार करते हैं तुमको सनम”, गीत को संगीत चार्ट से बाहर करने से इनकार कर दिया था।
  • फिल्म आशिकी, दिल है की मानता नहीं और सड़क से वह अपने गायन करियर के शिखर तक पहुंची। हालांकि, वर्ष 1983 में, वह कुछ समय के लिए व्यक्तिगत रूप से फिल्मजगत से गायब हो गई थी, क्योंकि उस समय उन्होंने अपनी बेटी को खो दिया था और उनका पति अरुण बहुत बीमार हो गया था। वह मानसिक रूप से काफी डिप्रेस हो गई थीं। वर्ष 1990 की शुरुआत में, उन्होंने फिल्म उद्योग से पीछे हटना शुरू कर दिया और केवल टी-सीरीज़ के लिए गायन करने की घोषणा की, जिसके चलते उन्होंने भक्ति गायन किया। फिल्मजगत से निकलने से अल्का याज्ञिक को काफी लाभ हुआ, जो बाद में काफी लोकप्रिय हुईं।
  • उन्होंने टी-सीरीज के मोगुल गुलशन कुमार के साथ मित्रता की। हालांकि, जब अगस्त 1997 में उन्हें गोली मार दी गई, तो अनुराधा का सफल बनने का दृष्टिकोण बदल गया। वह कहती है कि “Today, when I have a hit, it feels nice, but that’s it.”
  • अपने पति की मृत्यु के बाद, उनका बेटा आदित्य फिल्म उद्योग में सबसे कम उम्र का गायक बन गया था। उनकी बेटी कविता पोडवाल भी एक पार्श्व गायिका है।
  • अनुराधा ने अपने स्वर्गीय पति अरुण की याद में ‘सूर्यउदय’ नामक एक फाउंडेशन की स्थापना की है।
  • एक साक्षात्कार में, उन्होंने खुलासा किया कि उन्हें शास्त्रीय संगीत में कभी भी प्रशिक्षण नहीं मिला और मैंने लता जी के गीत सुनकर अपने संगीत कला को सुधारा था।

  • अनुराधा पौडवाल के जीवन और उनकी गायन यात्रा की एक झलक यहां दी गई है:

विज्ञापन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *