Menu

Arvind Kejriwal Biography in Hindi | अरविंद केजरीवाल जीवन परिचय

अरविन्द केजरीवाल

विज्ञापन

जीवन परिचय
वास्तविक नाम अरविंद केजरीवाल
उपनाम ज्ञात नहीं
व्यवसाय भारतीय राजनेता
पार्टी/दल आम आदमी पार्टी
आम आदमी पार्टी
राजनीतिक यात्रा • नवंबर 2012 में, उन्होंने औपचारिक रूप से आम आदमी पार्टी का गठन किया।
• 2013 में, उन्होंने शीला दीक्षित के खिलाफ दिल्ली विधानसभा चुनाव लड़ने का फैसला किया।
• 2013 के दिल्ली विधानसभा चुनाव में, उन्होंने 25,864 मतों के अंतर से शीला दीक्षित को पराजित किया।
• 28 दिसंबर 2013 को, वह दिल्ली के मुख्यमंत्री बने।
• 25 मार्च 2014 को, उन्होंने वाराणसी के निर्वाचन क्षेत्र से नरेंद्र मोदी के खिलाफ लोकसभा चुनाव लड़ने की घोषणा की,परन्तु वह 370000 मतों के अंतर से पराजित हुए।
• 14 फरवरी 2015 को, वह दूसरी बार दिल्ली के मुख्यमंत्री बने और 70 सीटों में से 67 पर एक विशाल बहुमत हासिल कर अपनी सरकार का गठन किया।
शारीरिक संरचना
लम्बाई से० मी०- 165
मी०- 1.65
फीट इन्च- 5’ 5”
वजन/भार (लगभग)64 कि० ग्रा०
आँखों का रंग काला
बालों का रंग काला
व्यक्तिगत जीवन
जन्मतिथि 16 अगस्त 1968
आयु (2017 के अनुसार)49 वर्ष
जन्मस्थान सिवानी, जिला भिवानी, हरियाणा, भारत
राशि सिंह
राष्ट्रीयता भारतीय
गृहनगर सिवानी, जिला भिवानी, हरियाणा, भारत
स्कूल/विद्यालय कैंपस स्कूल, हिसार, हरियाणा, भारत
Christian Missionary Holy Child विद्यालय, सोनीपत, हरियाणा, भारत
महाविद्यालय/विश्वविद्यालयभारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान खड़गपुर, पश्चिम बंगाल में
शैक्षिक योग्यता आईआईटी खड़गपुर से मैकेनिकल इंजीनियरिंग में स्नातक
राजनीतिक आरम्भ नवंबर 2012 में, जब उन्होंने औपचारिक रूप से आम आदमी पार्टी की स्थापना की
परिवार पिता - गोबिंद राम केजरीवाल (विद्युत अभियंता)
माता- गीता देवी
अरविंद केजरीवाल अपनी माता के साथ
भाई- मनोज (युवा) - आईबीएम, पुणे में सॉफ्टवेयर इंजीनियर
बहन - रंजना (छोटी बहन) - भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (बीएचईएल), हरिद्वार में चिकित्सक
 अरविन्द केजरीवाल अपनी बहन के साथ
धर्म हिन्दू
शौक/अभिरुचिपढ़ना, योग करना और विपासना करना
प्रेम संबन्ध एवं अन्य जानकारियां
वैवाहिक स्थिति विवाहीत
पत्नी सुनीता केजरीवाल (आईआरएस अधिकारी) - 1995 में विवाहित
 अरविन्द केजरीवाल अपनी पत्नी और बच्चों के साथ
बच्चे बेटा : पुलकित
बेटी : हर्षिता
धन संबंधित विवरण
संपत्ति (लगभग)71 लाख लगभग

अरविन्द केजरीवाल

विज्ञापन

अरविंद केजरीवाल से जुड़ी कुछ रोचक जानकारियाँ

  • क्या अरविंद केजरीवाल धूम्रपान करते हैं?  ज्ञात नहीं
  • क्या अरविंद केजरीवाल शराब पीते हैं?  ज्ञात नहीं
  • उत्तराखंड स्थित मसूरी में सिविल सेवा प्रशिक्षण के दौरान अरविन्द की मुलाकात अपनी पत्नी सुनीता से हुई।
  • वह शुद्ध शाकाहारी आदमी हैं और वह विपासना का पालन करते हैं।
  • वह मैकेनिकल इंजीनियर (आईआईटी, खड़गपुर से स्नातक) भी हैं।
  • उन्होंने एक ही प्रयास में सिविल सेवा परीक्षा में सफल रहें।
  • वह हमेशा सामाजिक कार्यों में भाग लेते रहे हैं और जिसके चलते उन्होंने मदर टेरेसा के साथ भी काम किया है।
  • खड़गपुर में अपने कॉलेज के दिनों के दौरान, अरविंद बच्चों को पढ़ाने के लिए झुग्गी बस्तियों में जाते थे, जो पढ़ाई नहीं कर सकते थे। जैसा कि एक इंटरव्यू में उनके सहपाठियों ने बताया कि अरविंद छुट्टियों में बच्चों को पढ़ाने के लिए झुग्गियों में जाते थे और जब कि उनके सहपाठी फ़िल्में देखने, खेलने जाते थे।
  • अरविन्द के कारण ही आरटीआई दिल्ली अधिनियम में आया। वर्ष 2006 में अरविंद केजरीवाल को आरटीआई कानून के लिए रमन मैगसेसे पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
  • उन्होंने एक गैर सरकारी संगठन को राशि देने के लिए “मेग्सेसे पुरस्कार” को दान कर दिया था।
  • वर्ष 2006 में, उन्होंने सामाजिक सेवाओं में अपने पूरे समय को समर्पित करने के लिए राजस्व सेवा से इस्तीफा दे दिया।
  • आईआरएस अधिकारी के रूप में अरविन्द केजरीवाल ने एक चपरासी लेने से इंकार कर दिया था।
  • वह कभी भी अपने जन्मदिन को नहीं मनाते।
  • वर्ष 2011 में, उन्होंने अन्ना हजारे की टीम के साथ जन लोकपाल विधेयक को पारित करने के लिए दिल्ली के रामलीला मैदान में भ्रष्टाचार (आईएसी) आंदोलन को नियोजित किया था, जो कि कांग्रेस, भाजपा और अन्य राजनीतिक दलों के राजनीतिक रणनीति के कारण असफल रहा था।
  • आंदोलन की विफलता के बाद, अरविंद केजरीवाल और कई अन्य आईएसी टीम के सदस्यों ने भारत में भ्रष्टाचार से लड़ने के लिए एक राजनीतिक दल बनाने का फैसला किया था। हालांकि अन्ना हजारे, किरण बेदी और कई अन्य आईएसी टीम सदस्य राजनीतिक व्यवस्था में प्रवेश करने के खिलाफ थे।
  • 26 नवंबर 2012 को अरविन्द केजरीवाल ने आम आदमी पार्टी का गठन किया था।
  • दिल्ली विधानसभा चुनाव 2013 में, उन्होंने तीन बार दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित रहीं को 25,864 मतों से हराया था।
  • उनकी एक आदत है कि वह प्रत्येक दस्तावेज, फाइल की प्रत्येक पंक्ति को मार्कर के साथ चिह्नित करते हैं और सुनिश्चित करते हैं कि सबकुछ सही है। उनके सहयोगियों का कहना है कि अरविन्द केजरीवाल ने जन लोकपाल विधेयक की जाँच सौ बार की थी।
  • वह जन लोकपाल विधेयक टीम के मुख्य सदस्य थे, जिन्होंने जन लोकपाल विधेयक को बनाया था।
  • वह बहुत जल्द अपने गुस्से पर काबू पा लेते हैं। उनके सहकर्मियों के मुताबिक जब भी वह क्रोधित हो जाते हैं तो वह कुछ समय के लिए किसी से बात नहीं करते।
विज्ञापन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *