Menu

Sakshi Malik Biography in Hindi | साक्षी मलिक जीवन परिचय

साक्षी मलिक

विज्ञापन

जीवन परिचय
वास्तविक नाम साक्षी मलिक
व्यवसाय फ्रीस्टाइल पहलवान
शारीरिक संरचना
लम्बाई (लगभग)से० मी०- 162
मी०- 1.62
फीट इन्च- 5' 3”
वजन/भार (लगभग)55 कि० ग्रा०
आँखों का रंग काला
बालों का रंग काला
कुश्ती
वर्ग58 कि० ग्रा०
अंतर्राष्ट्रीय डेब्यू 2014 राष्ट्रमंडल खेल
कोच / संरक्षकईश्वर दहिया
मुख्य (पदक)• वर्ष 2010 में, जूनियर वर्ल्ड चैंपियनशिप (59 किग्रा श्रेणी) में कांस्य पदक जीता।
• वर्ष 2014 में, डेव शुल्ज इंटरनेशनल रेसलिंग टूर्नामेंट में स्वर्ण पदक जीता।
• वर्ष 2015 में, दोहा में वरिष्ठ एशियाई कुश्ती चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीता।
• अगस्त 2016 में, रियो ओलंपिक (58 किग्रा वर्ग) में कांस्य पदक जीता।
कैरियर टर्निंग प्वाइंटजब वर्ष 2014 में, राष्ट्रमंडल खेल में उन्होंने रजत पदक जीता
व्यक्तिगत जीवन
जन्मतिथि 3 सितंबर 1992
आयु (2017 के अनुसार)25 वर्ष
जन्मस्थान रोहतक, हरियाणा, भारत
राशि मीन
राष्ट्रीयता भारतीय
गृहनगर रोहतक, हरियाणा, भारत
स्कूल/विद्यालय वैश्य पब्लिक स्कूल, रोहतक, हरियाणा
डीएवी शताब्दी पब्लिक स्कूल, रोहतक, हरियाणा
महाविद्यालय/विश्वविद्यालयमहर्षि दयानंद विश्वविद्यालय (एमडीयू), रोहतक, हरियाणा
शैक्षिक योग्यता स्नातक
परिवार पिता - सुखबीर (डीटीसी बस कंडक्टर)
माता - सुदेश (आंगनवाड़ी में कार्य करती हैं)
बहन- ज्ञात नहीं
साक्षी मलिक अपने माता-पिता के साथ
भाई - सचिन मलिक
साक्षी मलिक अपने भाई के साथ
धर्म हिन्दू
जातिजाट
शौक/अभिरुचियात्रा करना, योग करना
प्रेम संबन्ध एवं अन्य जानकारियां
वैवाहिक स्थिति विवाहित
विवाह तिथि2 अप्रैल 2017
बॉयफ्रैंड्स एवं अन्य मामलेसत्यवर्त कादियन (पहलवान)
पतिसत्यवर्त कादियन (पहलवान)
साक्षी मलिक अपने पति के साथ
बच्चेकोई नहीं

साक्षी मलिक

विज्ञापन

साक्षी मलिक से जुड़ी कुछ रोचक जानकारियाँ

  • क्या साक्षी मलिक धूम्रपान करती हैं ? ज्ञात नहीं
  • क्या साक्षी मलिक शराब पीती हैं ? ज्ञात नहीं
  • उन्होंने 12 वर्ष की आयु में कुश्ती प्रशिक्षण लेना शुरू कर दिया था।
  • साक्षी को ईश्वर दहिया ने रोहतक के छोटू राम स्टेडियम, में प्रशिक्षण दिया।
  • अपने प्रशिक्षण अवधि के दौरान, उन्हें स्थानीय लड़कों के साथ कुश्ती लड़नी पड़ती थी, क्योंकि वह एक ऐसा क्षेत्र है जहां लड़कियां कुश्ती नहीं खेल सकती।
  • जब उनके कोच ईश्वर दाहिया उन्हें प्रशिक्षण दिया करते थे, तब उन्हे स्थानीय लोगों के विरोध का सामना करना पड़ा था।
  • एक साक्षात्कार में, साक्षी ने कहा कि वर्ष 2014 के, राष्ट्रमंडल खेल में मिला रजत पदक उन्हें सबसे ज्यादा प्रिय है।
  • मई 2016 में, ओलिंपिक वर्ल्ड क्वालीफाइंग टूर्नामेंट में चीन के “Zhang Lan” को हराने के बाद, उन्होंने रियो ओलंपिक में अपनी जगह बनाई।
  • 17 अगस्त 2016 को, रियो ओलंपिक में उन्होंने कज़ाख़िस्तान की Aisuluu Tynybekova को हराकर कांस्य पदक अपने नाम किया। ओलंपिक में पदक जीतने वाली वह पहली भारतीय महिला पहलवान और भारत की चौथी महिला खिलाड़ी बन गई।

विज्ञापन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *