Menu

Jaggi Vasudev (Sadhguru) Biography in hindi | जग्गी वासुदेव (सद्गुरु) जीवन परिचय

जग्गी वासुदेव

विज्ञापन

जीवन परिचय
उपनाम सद्गुरु
व्यवसाय भारतीय योगी और रहस्यवादी
शारीरिक संरचना
लम्बाई (लगभग)से० मी०- 172
मी०- 1.72
फीट इन्च- 5’ 8”
वजन/भार (लगभग)70 कि० ग्रा०
आँखों का रंग काला
बालों का रंग ग्रे
करियर
डेब्यू फिल्म (अभिनेता) : ONE: The Movie (Directed by Scott Carter, Ward M. Powers, and Diane Powers)
व्यक्तिगत जीवन
जन्मतिथि 3 सितंबर 1957
आयु (वर्ष 2018 के अनुसार)61 वर्ष
जन्मस्थान मैसूर, कर्नाटक, भारत
राष्ट्रीयता भारतीय
गृहनगर कर्नाटक, भारत
राशिकन्या
हस्ताक्षर जग्गी वासुदेव हस्ताक्षर
स्कूल Demonstration स्कूल, मैसूर (1973)
कॉलेज मैसूर विश्वविद्यालय
शैक्षणिक योग्यता अंग्रेजी साहित्य में स्नातक
धर्म हिन्दू
पता ईशा फाउंडेशन 15, गोविंदासामी नायडू लेआउट, सिंगनल्लूर, कोयंबटूर - 641005, भारत
शौक अभिरुचि गोल्फ खेलना, होप्सकॉच करना, क्रिकेट खेलना, वॉलीबॉल खेलना, बिलियर्ड्स खेलना, फ्रिसबी और ट्रेकिंग करना
जग्गी वासुदेव पसंदीदा खेल खेलते हुए
जग्गी वासुदेव पसंदीदा खेल खेलते हुए
विवाद • अक्टूबर 1997 में, अपनी पत्नी की मृत्यु के बाद बैंगलोर पुलिस स्टेशन में उनके खिलाफ एक शिकायत दर्ज की गई, जिसमें उन पर अपनी पत्नी पर दहेज के लिए प्रताड़ित करने का आरोप लगा था। जिसके कारण तमिल मीडिया ने सद्गुरु के खिलाफ रोष प्रदर्शन करते हुए, लाल झंडा दिखाया।
• वह विवादों में तब आए, जब उनके खिलाफ तमिलनाडु जिला अदालत में एक याचिका दायर की गई, जिसमें उन पर आरोप लगा कि उनके ईशा योग केंद्र, कोयंबटूर में दो वयस्क महिलाओं को बंदी बनाकर रखा गया है।
• पर्यावरणविदों और कई राजनीतिक नेताओं ने दावा किया कि ईशा योग केंद्र वन भूमि पर स्थित है और वह पश्चिमी घाट के वेल्लियानिरी हिल्स में स्थित हाथियों के क्षेत्र (elephant corridor) का अतिक्रमण कर रहा है, जिससे हाथियों की पर्यावरणीय क्षति और मौत हो रही है।
प्रेम संबन्ध एवं अन्य जानकारी
वैवाहिक स्थिति विवाहित
विवाह तिथि वर्ष 1984 (महाशिवरात्री के दिन)
गर्लफ्रेंड विजयकुमारी
परिवार
पत्नी विजयकुमारी (बैंकर, मृत्यु 23 जनवरी 1997)
जग्गी वासुदेव की पत्नी विजयकुमारी
बच्चे बेटा - कोई नहीं
बेटी - राधे जग्गी (वर्ष 1990 में जन्म और एक कर्नाटक शास्त्रीय गायक संदीप नारायण से विवाहित)
जग्गी वासुदेव की बेटी
माता-पिता पिता - डॉ वासुदेव (ओप्थाल्मोलॉजिस्ट)
माता - सुशीला वासुदेव
जग्गी वासुदेव की माँ
भाई-बहन भाई - 1
बहन - 2
धन संबंधित विवरण
बाइक संग्रह रॉयल एनफील्ड
कुल संपत्ति (लगभग)₹250 करोड़

जग्गी वासुदेव

जग्गी वासुदेव से जुड़ी कुछ रोचक जानकारियाँ

  • वह ईशा फाउंडेशन के संस्थापक हैं, जो पूरी दुनिया में योग कार्यक्रमों को संचालित करती है।

  • वह सामाजिक कार्यों, पर्यावरणीय कार्यक्रमों और शैक्षणिक कार्यक्रमों में सक्रिय रूप से भाग लेते रहते हैं।
  • आध्यात्मिकता के प्रति उनके योगदान के लिए भारत सरकार ने उन्हें 13 अप्रैल 2017 को पद्म विभूषण पुरस्कार से सम्मानित किया है।
  • बचपन में, वह प्रकृति की ओर काफी आकर्षित हुए। जिसके चलते उन्होंने घर के पास एक जंगल में समय बिताना शुरू किया। उस दौरान उन्होंने सरीसृपों के प्रति प्यार को विकसित किया।

    जग्गी वासुदेव सांप के साथ

    जग्गी वासुदेव सांप के साथ

  • बारह वर्ष की उम्र में, उन्होंने मल्लादिहल्ली श्री राघवेंद्र स्वामीजी से मुलाकात की और योग आसन सीखा। उनके अनुसार, वह बिना किसी ब्रेक के नियमित रूप से इन आसनों का अभ्यास करते रहते हैं।

    जग्गी वासुदेव योग करते हुए

    जग्गी वासुदेव योग करते हुए

  • कॉलेज के दिनों में, उन्हें मोटरसाइकिल पर यात्रा करना बहुत पसंद था। जिसके चलते वह मैसूर के निकट चामुंडी हिल में अपने दोस्तों के साथ रात्रिभोज के लिए जाते थे।

    जग्गी वासुदेव युवावस्था के दौरान

    जग्गी वासुदेव युवावस्था के दौरान

  • उन्हें भारत के विभिन्न स्थानों पर मोटरसाइकिल पर अकेले यात्रा करना पसंद है।
  • कॉलेज से पढ़ाई पूरी करने के बाद, उन्होंने पोल्ट्री फार्म, ईंट बनाने, इत्यादि कई व्यवसायों को करने कोशिश की। जिसके कारण, वह एक सफल व्यवसायी बने।

    जग्गी वासुदेव एक सफल व्यवसायी के रूप में

    जग्गी वासुदेव एक सफल व्यवसायी के रूप में

  • उन्होंने दावा किया कि 23 सितंबर 1982 को चामुंडी हिल में एक चट्टान पर बैठने के दौरान उन्हें अध्यात्म की अनुभूति हुई थी।
  • रहस्यमयी अनुभवों के बारे में अधिक जानने के लिए, उन्होंने विभिन्न स्थानों की यात्रा की और एक वर्ष तक ध्यान के आंतरिक अनुभवों को लोगों के साथ साझा करने का निर्णय किया।
  • वर्ष 1983 में, उन्होंने मैसूर में अपनी पहली योग कक्षा का आयोजन किया और उसके बाद कर्नाटक और हैदराबाद में योग कक्षाओं का आयोजन किया। धीरे-धीरे, उनके योग आसन इतने लोकप्रिय हो गए कि 15,000 से अधिक प्रतिभागियों ने योग कार्यक्रमों में भाग लेना शुरू कर दिया।

  • उन्होंने अपनी योग कक्षाओं के लिए कुछ भी नहीं स्वीकार करने का फैसला किया और जीवित रहने के लिए अपने पोल्ट्री फार्म के उत्पादन पर निर्भर रहना शुरू किया।
  • वह योग कक्षाओं से एकत्रित धन को स्थानीय दान के लिए दे देते थे।

    जग्गी वासुदेव योग कक्षा के दौरान

    जग्गी वासुदेव योग कक्षा के दौरान

  • वर्ष 1993 में, उन्होंने ईशा (“निरर्थक दिव्य”) योग केंद्र को स्थापित किया, जो संयुक्त राष्ट्र की अंतर्राष्ट्रीय निकायों आर्थिक और सामाजिक परिषद के साथ मिलकर काम करता है।

    जग्गी वासुदेव योग केंद्र

    जग्गी वासुदेव योग केंद्र

  • उनके योग कार्यक्रम को ‘इनर इंजीनियरिंग’ के रूप में नामित किया गया है, जो लोगों के ध्यान, ईशा क्रिया, चित शक्ति, शम्भवी महामुद्रा और प्राणायाम को निर्देशित करता है।

  • ईशा योग केंद्र में नियमित योग कक्षाएं आयोजित करने के अलावा, उन्होंने वर्ष 1996 में भारतीय हॉकी टीम के लिए भी एक कोर्स शुरू किया।
  • वर्ष 1997 में, उन्होंने संयुक्त राज्य अमेरिका में योग कक्षाएं आयोजित करना शुरू किया और एक वर्ष बाद तमिलनाडु के कैदियों के लिए योग कक्षा आयोजित करने का फैसला किया।
  • 23 जून 1999 को, उन्होंने तमिलनाडु के कोयंबटूर से 30 किमी दूर ध्यान के लिए एक योग मंदिर “ध्यानलिंगा” को स्थापित किया।

  • उन्होंने वर्ष 2006, वर्ष 2007, वर्ष 2008, वर्ष 2009 में विश्व आर्थिक मंच में भाग लिया और वर्ष 2000 में संयुक्त राष्ट्र मिलेनियम वर्ल्ड पीस शिखर सम्मेलन को भी संबोधित किया।
  • पिछड़े क्षेत्रों के गरीब लोगों के स्वस्थ जीवन और गुणवत्ता में सुधार के लिए, उन्होंने वर्ष 2003 में “ग्रामीण पुनर्जीवन कार्यक्रम” (एआरआर) को शुरू किया। जिसने अब तक 4,200 गांवों के 7 मिलियन से अधिक लोगों को लाभान्वित किया है।

  • वर्ष 2005 में, उन्होंने ईशा इंस्टीट्यूट ऑफ इनर-साइंसेज, मैकमिन्नविले, टेनेसी, सयुंक्त राज्य अमेरिका का निर्माण किया। उसी वर्ष, उन्होंने कोयंबटूर के पास ईशा योग केंद्र में “ईशा होम स्कूल” नामक एक आवासीय विद्यालय की भी स्थापना की।

  • वर्ष 2006 में, ईशा विद्या फाउंडेशन ने एक ही दिन में तमिलनाडु में 6,284 स्थानों में 8,052,587 पौधे लगाए और गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में अपना नाम दर्ज किया।
  • मार्च 2006 में, उन्होंने ध्यानलिंग में प्रवेश करने से पहले एक व्यक्ति में आध्यात्मिक ग्रहणशीलता बढ़ाने के उद्देश्य से सूर्यकुंड और चंद्रकुंड के रूप में नामित एक ठोस पारा लिंगम तीर्थाकुंड (भूमिगत जल निकाय) का निर्माण किया।

    जग्गी वासुदेव के द्वारा निर्मित तीर्थाकुंड

    जग्गी वासुदेव के द्वारा निर्मित तीर्थाकुंड

  • तमिलनाडु और कर्नाटक में वह महासाथसंग आयोजित करते हैं। जिसमें वह पर्यावरण, आध्यात्मिकता और ध्यान के बारे में बात करते हैं।

  • वह आध्यात्मिक लोगों के लिए कैलाश पर्वत और हिमालय पर्वत की पवित्र यात्रा को भी आयोजित करते रहते हैं। वर्ष 2010 में, उन्होंने कैलाश पर्वत के 514 तीर्थयात्रियों के समूह का नेतृत्व किया था।

    जग्गी वासुदेव कैलाश पर्वत पर

    जग्गी वासुदेव कैलाश पर्वत पर

  • उन्होंने 30 जनवरी 2010 को ईशा योग केंद्र में लिंग भैरवी (भगवान का स्त्री पहलू) को पवित्र किया।

विज्ञापन
  • ध्यानलिंग और लिंग भैरवी के संरेखण में, उन्होंने भाव स्पंदना (ध्यान) और अन्य समारोहों को आयोजित करने के लिए एक स्पांडा हॉल का निर्माण किया।

  • जून 2010 में, उनके प्रोजेक्ट ग्रीनहैंड्स (पीजीएच) को भारत सरकार द्वारा इंदिरा गांधी पर्यावरण पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। एक पारिस्थितिकीय पहल के रूप में प्रोजेक्ट ने तमिलनाडु में 2 मिलियन से अधिक स्वयंसेवकों द्वारा 27 मिलियन से अधिक पेड़ लगाए गए।

  • भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में साक्षरता को सुधारने के लिए, उन्होंने ईशा विद्या फाउंडेशन 3,000 से अधिक स्कूलों को अपनाने के उद्देश्य से शुरू किया था। जिसमें उन्होंने पिछड़े क्षेत्रों में वित्तीय रूप से कमजोर छात्रों की मदद के लिए 512 सरकारी स्कूलों में अपनाया था।

  • वर्ष 2012 में, उन्होंने छोटे और मध्यम स्तर के व्यवसायों को ऊपर उठाने के लिए “ईशा इनसाइट” कार्यक्रम की शुरुआत की।
  • वह ईशा योग केंद्र में सालाना महाशिवरात्री उत्सव आयोजित करते हैं। वर्ष 2013 में, प्रसिद्ध शास्त्रीय गायक अरुणा साईंराम, प्रमुख नर्तक अनीता रत्नम और द रघु दीक्षित परियोजना के प्रसिद्ध बैंड ने इस उत्सव के दौरान शानदार प्रदर्शन किया था।

    जग्गी वासुदेव महाशिवरात्रि उत्सव मनाते हुए

    जग्गी वासुदेव महाशिवरात्रि उत्सव मनाते हुए

  • 24 जून 2013 को, ध्यानलिंग के 14 वीं वर्षगांठ समारोह के अवसर पर, उन्होंने ईशा योग केंद्र में एक बहु-धार्मिक सत्र को आयोजित किया।

    जग्गी वासुदेव विभिन्न धार्मिक गुरुओं के साथ

    जग्गी वासुदेव विभिन्न धार्मिक गुरुओं के साथ

  • भारत की सुखने वाली नदियों को पुनर्जीवित करने के लिए ईशा फाउंडेशन ने वर्ष 2017 में “रैली फॉर रीवर्स” नामक अभियान शुरू किया। वैज्ञानिकों और कानून के विशेष्ज्ञों के परामर्श से नदियों, घाटी, पारिस्थितिकी, कृषि और अर्थव्यवस्था को फिर से जीवंत करने के उद्देश्य से एक नीति बनाई गई। 2 अक्टूबर 2017 को नई दिल्ली में रैली के समापन के बाद बनाई गई नीति का ड्राफ्ट प्रधानमंत्री को सौपा गया।

     जग्गी वासुदेव रैली फॉर रीवर्स अभियान के दौरान

    जग्गी वासुदेव रैली फॉर रीवर्स अभियान के दौरान

  • जग्गी वासुदेव ने 20,000 लौहें की प्लेटों (500 टन) की सहायता से आदियोगी की मूर्ति (112 फुट ऊंची) को डिजाइन किया और बनाया। इसे “योगेश्वर लिंग” के सामने रखा गया। इसका उद्घाटन भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया। 24 फरवरी 2017 को, यह मूर्ति गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में सबसे बड़ी मूर्ति के रूप में पंजीकृत हुई।

    जग्गी वासुदेव के द्वारा निर्मित आदियोगी की मूर्ति

    जग्गी वासुदेव के द्वारा निर्मित आदियोगी की मूर्ति

  • वह एक प्रतिभाशाली कवि और लेखक भी हैं, जिन्होंने अंग्रेजी में आठ से अधिक विभिन्न भाषाओं में कई किताबें लिखीं हैं जैसे कि – “इनर इंजीनियरिंग: ए योगी गाइड टू जॉय”, “आदियोगी: द सोर्स ऑफ योग”, “वेल ट्रॉन्स ऑफ थ्री ट्रुथ”, “एनकॉन्टेड द एनलाइटेड”,”मिस्टिक म्यूज़िंग्स”,”कंबल ऑफ विस्डम”, तमिल-” अथानाइकम असिपुडू”,”आनंद अलीई”,”अयराम जन्नल”,”मोंड्रावथु कोनाम”,”ज्ञानथिन ब्रमंदम”,”अनककेव ओरु रगासियाम” , “गुरु थंथा गुरु”, “कोंजम अमुधम कोंजम विश्व”, हिंदी में- “योगी: साधुरु की महायात्रा”, “ऋषि से श्रृता ताक”, “एक अध्यात्मिक गुरु का अलौकिक ज्ञान”, “आत्मज्ञान: आखिर है क्या”,”राह के फूल”, कन्नड़ -“ज्ञानोदय”,” करुणगे भेदविल्ला “, तेलुगू-“गनी सनिधिहिलो”, इत्यादि।

    जग्गी वासुदेव कविता लिखते हुए

    जग्गी वासुदेव कविता लिखते हुए

  • उनकी पौराणिक कथाओं को “अनंत काल” किताब में एकत्र किया जाता है, जो भक्ति, संघर्ष, प्यार, मांग, लालसा और आनंद को व्यक्त करता है।

    जग्गी वासुदेव कथा लिखते हुए

    जग्गी वासुदेव कथा लिखते हुए

  • उन्होंने “फारेस्ट फ्लावर” नामक एक अंग्रेजी पत्रिका भी लॉन्च की है। इस पत्रिका में, उनकी कविताओं को तस्वीरों के साथ प्रकाशित किया गया है। उनकी मासिक पत्रिकाएं “ईशा कट्टू पू” और “ईशा लाहर”, आदि अन्य भाषाओं में भी उपलब्ध है।

    जग्गी वासुदेव की बहुचर्चित पत्रिकाएं

    जग्गी वासुदेव की बहुचर्चित पत्रिकाएं

  • जग्गी वासुदेव के अनुसार, वह खाना पकाने के बहुत शौकीन है और अपनी बेटी के लिए रोजाना खाना पकाते हैं।

    जग्गी वासुदेव खाना पकाते हुए

    जग्गी वासुदेव खाना पकाते हुए

  • वह एक अच्छे वास्तुकार भी हैं, जिसके चलते उन्होंने अपने सभी आश्रमों को डिजाईन किया है।

    जग्गी वासुदेव एक वास्तुकार के रूप में

    जग्गी वासुदेव एक वास्तुकार के रूप में

  • सद्गुरु ने एक प्रसिद्ध डाक्यूमेंट्री फिल्म में भी भाग लिया – वन: द स्कॉट कार्टर, वार्ड एम पावर, जिसे डियान पावर द्वारा निर्देशित किया गया था।
  • उन्होंने बॉलीवुड फिल्म स्टार अनुपम खेर और प्रसिद्ध फिल्म निर्देशक करण जौहर के साथ साक्षात्कार में अपने व्यक्तित्व के तथ्यों का खुलासा किया।

विज्ञापन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *