Menu

Ram Prasad Bismil Biography in Hindi | राम प्रसाद बिस्मिल जीवन परिचय

राम प्रसाद बिस्मिल

विज्ञापन

जीवन परिचय
वास्तविक नाम राम प्रसाद 'बिस्मिल'
उपनाम बिस्मिल, राम, अज्ञात
व्यवसाय स्वतंत्रता सेनानी, कवि, शायर, अनुवादक, इतिहासकार व साहित्यकार
व्यक्तिगत जीवन
जन्मतिथि 11 जून 1897
आयु (मृत्यु के समय)30 वर्ष
जन्मस्थान शाहजहाँपुर, ब्रिटिश भारत
मृत्यु तिथि19 दिसंबर 1927
मृत्यु स्थलगोरखपुर जेल, ब्रिटिश भारत
मृत्यु का कारणफांसी (सजा-ए-मौत)
समाधि स्थलजिला देवरिया, बरहज, उत्तर प्रदेश, भारत
राशि मिथुन
राष्ट्रीयता भारतीय
गृहनगर गांव खिरनीबाग मोहल्ला, शाहजहाँपुर, उत्तर प्रदेश
स्कूल/विद्यालय राजकीय विद्यालय, शाहजहाँपुर
महाविद्यालय/विश्वविद्यालयज्ञात नहीं
शैक्षिक योग्यता आठवीं पास
परिवार पिता - मुरलीधर
राम प्रसाद बिस्मिल के पिता मुरलीधर
माता- मूलमती
राम प्रसाद बिस्मिल की माँ
भाई- रमेश सिंह
बहन- शास्त्री देवी, ब्रह्मादेवी, भगवती देवी
राम प्रसाद बिस्मिल की बहन शास्त्री देवी
दादा- नारायण लाल
दादी- विचित्रा देवी
चाचा- कल्याणमल
धर्म हिन्दू
जाति ब्राह्मण
शौक/अभिरुचिपुस्तकें पढ़ना, लिखना
विवाद • वर्ष 1915 में, जब उन्हें आर्य समाज के संस्थापक भाई परमानन्द की फाँसी का समाचार मिला तो उन्होंने ब्रिटिश साम्राज्य को नष्ट करने की प्रतिज्ञा ली। रामप्रसाद ने पं॰ गेंदालाल दीक्षित के मार्गदर्शन में मातृवेदी नामक एक संगठन का गठन किया। इस संगठन की ओर से एक इश्तिहार और एक प्रतिज्ञा भी प्रकाशित की गई। संगठन के लिए धन एकत्र करने के उद्देश्य से रामप्रसाद ने जून 1918 में दो तथा सितम्बर 1918 में एक; कुल मिलाकर तीन डकैतियां डालीं। मैनपुरी डकैती में शाहजहाँपुर के तीन युवक शामिल थे, जिनके सरदार रामप्रसाद बिस्मिल थे, किन्तु वे पुलिस के हाथ नहीं आए, वह तत्काल फरार हो गए। जिसके चलते स्थानीय पुलिस द्वारा उनके खिलाफ गिरफ्तारी का नोटिस जारी किया गया।
पं॰ गेंदालाल दीक्षित : मैनपुरी षडयन्त्र में बिस्मिल के मार्गदर्शक
• 7 मार्च 1925 को बिचपुरी और 24 मई 1925 को द्वारकापुर में दो राजनीतिक डकैतियां डालीं। परन्तु उन्हें कुछ विशेष धन प्राप्त नहीं हो सका। इन दोनों डकैतियों में एक-एक व्यक्ति की मौके पर ही मृत्यु हो गई थी। अन्ततः उन्होंने यह निश्चय किया कि वे अब केवल सरकारी खजाना ही लूटेंगे, किसी भी रईस के घर डकैती बिल्कुल न डालेंगे। 9 अगस्त 1925 को बिस्मिल के नेतृत्व में कुल 10 लोगों ने काकोरी रेलवे स्टेशन से सरकारी खजाने की लूट की। ब्रिटिश सरकार ने इस ट्रेन डकैती को गम्भीरता से लेते हुए, इसकी जाँच डी॰ आई॰ जी॰ के सहायक (सी॰ आई॰ डी॰ इंस्पेक्टर) मिस्टर आर॰ ए॰ हार्टन को सौंप दी।
काकोरी कांड
पसंदीदा चीजें
पसंदीदा व्यक्तिमहर्षि स्वामी दयानन्द सरस्वती
प्रेम संबन्ध एवं अन्य जानकारियां
वैवाहिक स्थिति अविवाहित
पत्नी कोई नहीं

राम प्रसाद बिस्मिल

विज्ञापन

राम प्रसाद बिस्मिल से जुड़ी कुछ रोचक जानकारियाँ

  • क्या राम प्रसाद बिस्मिल धूम्रपान करते थे ?: हाँ
  • क्या राम प्रसाद बिस्मिल शराब पीते थे ?: हाँ
  • बिस्मिल के दादा जी नारायण लाल का पैतृक गाँव बरबाई था। यह गाँव तत्कालीन ग्वालियर राज्य में चम्बल नदी के बीहड़ों के बीच स्थित तोमरघार क्षेत्र के मुरैना जिले में था और वर्तमान में यह मध्य प्रदेश में है।
  • उनके पिता कचहरी में स्टाम्प पेपर बेचने का कार्य करते थे।
  • उनके माता-पिता राम के आराधक थे, जिसके चलते उनका नाम रामप्रसाद रखा गया।
  • मुरलीधर के घर कुल 9 सन्तानें हुई थी, जिनमें से पाँच लड़कियां एवं चार लड़के थे। जन्म के कुछ समय बाद दो लड़कियां एवं दो लड़कों का निधन हो गया था।
  • बाल्यकाल से ही रामप्रसाद की शिक्षा पर विशेष ध्यान दिया जाने लगा। उनका मन खेलने में अधिक और पढ़ने में कम लगता था। इसके कारण उनके पिताजी उन्हें खूब पीटा करते थे, ताकि वह पढ़ाई-लिखाई कर के एक क्रांतिकारी बन सकें। परन्तु उनकी माँ हमेशा प्यार से यही समझाती कि “बेटा राम! ये बहुत बुरी बात है पढ़ाई किया करो।” माँ के प्यार भरी सीख का भी उनपर कोई प्रभाव नहीं पड़ा।
  • 18 वर्ष की आयु से, रामप्रसाद को अपने पिता की सन्दूक से रुपए चुराने की लत पड़ गई थी। चोरी के रुपयों से उन्होंने उपन्यास खरीदकर पढ़ना शुरू कर दिया एवं सिगरेट पीना, भाँग पीना, इत्यादि नशा करना शुरू कर दिया।
  • उसके बाद उन्होंने उर्दू भाषा में मिडिल की परीक्षा उत्तीर्ण न होने पर अंग्रेजी पढ़नी शुरू की। साथ ही पड़ोस के एक पुजारी ने रामप्रसाद को पूजा-पाठ की विधि बतानी शुरू की। पुजारी के उपदेशों के कारण रामप्रसाद पूजा-पाठ के साथ ब्रह्मचर्य का पालन करने लगे।
  • इससे उनके शरीर में अप्रत्याशित परिवर्तन हो चुका था, वह नियमित पूजा-पाठ में समय व्यतीत करने लगे थे। एक दिन उनकी मुलाकात मुंशी इन्द्रजीत से हुई। जिन्होंने रामप्रसाद को आर्य समाज के सम्बन्ध में बताया और स्वामी दयानन्द सरस्वती की लिखी पुस्तक “सत्यार्थ प्रकाश” को पढ़ने की प्रेरणा दी। उस पुस्तक के गम्भीर अध्ययन से रामप्रसाद के जीवन पर आश्चर्यजनक प्रभाव पड़ा।
  • वर्ष 1916 के कांग्रेस अधिवेशन में स्वागताध्यक्ष पं॰ जगत नारायण ‘मुल्ला’ के आदेश की धज्जियाँ बिखेरते हुए, रामप्रसाद ने जब लोकमान्य बालगंगाधर तिलक की पूरे लखनऊ शहर में शोभायात्रा निकाली, तो सभी नवयुवकों का ध्यान उनकी दृढता की ओर आकर्षित हुआ।
  • बिस्मिल की एक विशेषता यह भी थी कि वे किसी भी स्थान पर अधिक दिनों तक ठहरते नहीं थे।
  • पलायन के दिनों में, उन्होंने वर्ष 1918 में प्रकाशित अंग्रेजी पुस्तक “दि ग्रेण्डमदर ऑफ रसियन रिवोल्यूशन” का हिन्दी अनुवाद किया। दि ग्रेण्डमदर ऑफ रसियन रिवोल्यूशन"
  • बिस्मिल ने शाहजहाँपुर में “भारत सिल्क मैनुफैक्चरिंग कंपनी” में एक प्रबंधक के रूप में कार्य किया। उसके बाद उन्होंने सदर बाजार में बनारसीलाल के साथ रेशमी साड़ियों का व्यापार करना शुरू किया।
  • वर्ष 1921 में, उन्होंने अहमदाबाद कांग्रेस अधिवेशन में पूर्ण स्वराज के प्रस्ताव पर मौलाना हसरत मोहनी का भरपूर समर्थन किया था। जिसके चलते पूर्ण स्वराज को पारित किया गया।
  • वर्ष 1922 में, चौरीचौरा कांड के पश्चात किसी से परामर्श किए बिना ही जब महात्मा गांधी जी ने असहयोग आन्दोलन वापस ले लिया था, तब गया कांग्रेस में बिस्मिल व उनके साथियों द्वारा गांधी जी का ऐसा विरोध किया गया कि कांग्रेस दो विचारधाराओं में बंट गई – एक उदारवादी या लिबरल और दूसरी विद्रोही या रिबेलियन।
  • 6 अप्रैल 1927 को विशेष सेशन जज ए० हैमिल्टन ने 115 पृष्ठ के निर्णय में प्रत्येक क्रान्तिकारी पर लगाए गए आरोपों पर विचार करते हुए लिखा कि यह कोई साधारण ट्रेन डकैती नहीं, अपितु ब्रिटिश साम्राज्य को उखाड़ फेंकने की एक सोची समझी साजिश है। हालाँकि इनमें से कोई भी अभियुक्त अपने व्यक्तिगत लाभ के लिए इस योजना में शामिल नहीं हुआ, बल्कि ब्रिटिश साम्राज्य को ध्वस्त करने के लिए शामिल हुआ।
  • उन्हें मैनपुरी षड्यन्त्र और काकोरी कांड में दोषी पाते हुए सेशन जज ए० हैमिल्टन ने फांसी की सजा सुनाई।
  • 16 दिसम्बर 1927 को बिस्मिल ने अपनी आत्मकथा के आखिरी अध्याय (अन्तिम समय की बातें) को पूर्ण करके जेल से बाहर भिजवा दिया।
  • 18 दिसम्बर 1927 को राम प्रसाद की अपने माता-पिता से अन्तिम मुलाकात हुई और सोमवार 19 दिसम्बर 1927 को प्रात:काल 6 बजकर 30 मिनट पर उनको गोरखपुर जेल में फाँसी दे दी गई। राम प्रसाद बिस्मिल को फांसी देते हुए
  • उनका अंतिम संस्कार राप्ती नदी के किनारे राजघाट पर हुआ।
  • बिस्मिल की अन्त्येष्टि के बाद बाबा राघव दास ने गोरखपुर के पास स्थित देवरिया जिले के बरहज नामक स्थान पर ताम्रपात्र में उनकी अस्थियों को संचित कर स्मृति-स्थल बनवाया। राम प्रसाद बिस्मिल समाधि स्थल
  • आजादी के इस संघर्ष में राम प्रसाद बिस्मिल में क्रांतिकारीयों में एक नई उमंग भरने के लिए एक देश भक्ति गीत लिखा। राम प्रसाद बिस्मिल का गीत सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है
  • ग्यारह वर्ष के क्रान्तिकारी जीवन में उन्होंने कई पुस्तकें लिखीं। जिनमें से ग्यारह पुस्तकें उनके जीवन काल में प्रकाशित हुई थीं, जिन्हे ब्रिटिश राज में ज़ब्त कर लिया गया था। स्वतन्त्र भारत में काफी खोजबीन के पश्चात् उनकी लिखी हुई प्रामाणिक पुस्तकें इस समय पुस्तकालयों में उपलब्ध हैं। राम प्रसाद बिस्मिल आत्मकथा पुस्तक
  • 19 दिसंबर 1997 को, भारत सरकार द्वारा राम प्रसाद बिस्मिल के जन्मदिवस की वर्षगांठ पर एक स्मरणीय डाक टिकट को जारी किया गया था। राम प्रसाद बिस्मिल स्मरणीय डाक टिकट
  • भारत सरकार द्वारा राम प्रसाद बिस्मिल की याद में उत्तर रेलवे में “पंडित राम प्रसाद बिस्मिल रेलवे स्टेशन” को स्थापित किया गया। भारत सरकार द्वारा स्थापित राम प्रसाद बिस्मिल रेलवे स्टेशन
  • वर्ष 2010 में, निर्देशक विनोद गणात्रा ने राम प्रसाद बिस्मिल के जीवन पर एक फिल्म बनाई।

विज्ञापन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *