Menu

Ravi Kumar Dahiya Biography in Hindi | रवि कुमार दहिया जीवन परिचय

Ravi Kumar Dahiya

जीवन परिचय
व्यवसाय भारतीय फ्रीस्टाइल पहलवान
उपनाममोनू
जाने जाते हैं।2019 में विश्व कुश्ती चैंपियनशिप के दौरान कांस्य पदक जीता।
शारीरिक संरचना
लम्बाईसे० मी०- 173
मी०- 1.73
फीट इन्च- 5’ 7” [1]ESPN
भार/वजन (लगभग)57 कि० ग्रा०
आँखों का रंग काला
बालों का रंग काला
कुश्ती
मौजूदा टीमइंडिया
अंतर्राष्ट्रीय डेब्यू2015 विश्व जूनियर कुश्ती चैम्पियनशिप (56 किग्रा) साल्वाडोर दा भहिया में भाग लिया।
डोमेस्टिक/स्टेट टीमहरियाणा हम्मेर्स
कोचसतपाल सिंह
रिकॉर्ड• 2015 विश्व जूनियर कुश्ती चैंपियनशिप में रजत पदक (56 किग्रा)
• 2018 विश्व U23 कुश्ती चैम्पियनशिप में रजत पदक (57 किग्रा)
• 2019 विश्व कुश्ती चैंपियनशिप में कांस्य पदक (57 किग्रा)
• 2020 एशियाई कुश्ती चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक (57 किग्रा)
• 2021 एशियाई कुश्ती चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक (57 किग्रा)
व्यक्तिगत जीवन
जन्मतिथि 12 दिसंबर 1997 (शुक्रवार)
आयु (2020 के अनुसार)23 वर्ष
जन्मस्थान नहरी, सोनीपत, हरियाणा, भारत
राशि धनु (Sagittarius)
राष्ट्रीयता भारतीय
गृहनगर नहरी, सोनीपत, हरियाणा, भारत
प्रेम संबन्ध एवं अन्य जानकारियां
वैवाहिक स्थितिअविवाहित
परिवार
पत्नीलागू नहीं
माता/पितापिता- राकेश दहिया (किसान)
माता- उर्मिला देवी
पसंदीदा चीजें

पहलवानसुशील कुमार

Ravi Kumar Dahiya

रवि कुमार दहिया से जुड़ी कुछ रोचक जानकारियाँ

  • रवि कुमार दहिया एक भारतीय फ्रीस्टाइल पहलवान हैं जिन्हें 57 किलोग्राम भार वर्ग में 2019 विश्व कुश्ती चैम्पियनशिप में कांस्य पदक जीतने और 2020 के ग्रीष्मकालीन टोक्यो ओलंपिक में क्वालीफाई करने के लिए जाना जाता है।
  • उन्होंने नई दिल्ली में आयोजित 2020 एशियाई कुश्ती चैम्पियनशिप में स्वर्ण पदक जीता।
  • रवि कुमार दहिया ने बहुत कम उम्र से कुश्ती के क्षेत्र में रुचि दिखाई और उनके पिता ने उन्हें 1982 के एशियाई खेलों के स्वर्ण पदक विजेता सतपाल सिंह के मार्गदर्शन में कुश्ती प्रशिक्षण के लिए उनका दाखिला दिल्ली के छात्रावास स्टेडियम में करवाया। Ravi Kumar Dahiya with his mentor and coach Satpal Singh
  • रवि कुमार के पिता राकेश दहिया एक किसान हैं जो हरियाणा के सोनीपत में किराए के खेत में धान की खेती करते हैं। जब से रवि कुमार ने कुश्ती में रुचि दिखाई उनके पिता ने उनके सपने का समर्थन किया और यह बताया गया कि उनके पिता दूध और फल देने के लिए छात्रावास स्टेडियम की यात्रा करेंगे ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि उनका बेटा उचित आहार ले रहा है या नहीं। यह सिलसिला लगभग दस सालों तक चलता रहा। Ravi Kumar's father Rakesh Kumar Dahiya centre
  • रवि कुमार दहिया ने अपने पहलवान करियर की शुरुआत वर्ष 2015 जूनियर विश्व कुश्ती चैम्पियनशिप से शुरू की और फ्रीस्टाइल कुश्ती के लिए 55 किलोग्राम कैटेगरी भार वर्ग में रजत पदक जीता।
  • दुर्भाग्य से रवि को वर्ष 2017 में चोट लग गई जिसके बाद लंबे समय तक कुश्ती रिंग से दूर रहना पड़ा और उन्हें आराम करने के लिए कहा गया। बाद में उन्होंने 2018 विश्व U23 कुश्ती चैम्पियनशिप के साथ वापसी की और 57 किग्रा भार वर्ग में रजत पदक जीता। Ravi Kumar after winning silver medal in 2018 U23 World Championship
  • वर्ष 2019 में दहिया ने प्रो रेसलिंग लीग में हरियाणा हैमर का प्रतिनिधित्व किया और पूरे लीग में जीतते रहे।
  • वर्ष 2019 में चीन के शीआन में आयोजित एशियाई कुश्ती चैम्पियनशिप खेल के दौरान कांस्य पदक जीतने से चूक गए और पांचवें स्थान पर रहे।
  • रवि कुमार दहिया 2020 के ग्रीष्मकालीन ओलंपिक की तैयारी कर रहे थे तभी क्वालीफायर राउंड के दौरान उन्होंने क्वार्टर फाइनल में यूरोपीय कुश्ती चैंपियन आर्सेन हारुत्युनियन और फिर 2017 विश्व चैंपियन युकी ताकाहाशी को हराया था। सेमीफाइनल दौर में रवि गत चैंपियन और स्वर्ण पदक विजेता ज़ौर उगुएव से मैच हार गए और 2019 विश्व कुश्ती चैम्पियनशिप में कांस्य पदक के लिए बने रहे। Ravi Kumar with a bronze medal
  • चैंपियनशिप के दौरान अपने बेदाग प्रदर्शन के लिए रवि कुमार को अक्टूबर 2019 में युवा मामले और खेल मंत्रालय की पहल लक्ष्य ओलंपिक पोडियम योजना (TOPS) से जोड़ा गया।
  • रवि जब छात्रावास स्टेडियम में ट्रेनिंग कर रहे थे तो उनके पिता अक्सर उनके लिए दूध और फल लाते थे। एक इंटरव्यू में छात्रावास के सीनियर कोच वीरेंद्र कुमार ने कहा-

    उनका परिवार बहुत गरीब है। इसके बावजूद उनके पिता किसी तरह उनके लिए दूध और फलों के साथ दिल्ली की यात्रा करने में सफल रहे। हम जानते थे कि वह अपने बेटे के आहार का भुगतान करने के लिए कर्ज भी ले रहे थे। इसलिए जब जरूरत होती छात्रावास के वरिष्ठ पहलवान और यहां तक ​​कि कोच भी अपना योगदान देते। हम जानते थे कि यह लड़का कुछ खास है।”

  • द हिंदू के साथ एक साक्षात्कार में, रवि कुमार ने एक सरल सूत्र के बारे में बात की जो वह ओलंपिक के लिए अनुसरण कर रहे हैं। उन्होंने कहा-

    यह सबसे बड़ी घटना है। लेकिन यह सिर्फ एक और घटना है। मैंने मैदान के ज्यादातर पहलवानों से लड़ाई की है। मुझे दबाव में रहने की जरूरत नहीं है।”

  • जहां रवि कुमार जिम और रिंग का अभ्यास करने में अच्छा समय बिता रहे थे वहीं वह अपने प्रतिद्वंद्वियों के खेल के वीडियो देखकर कुश्ती की तैयारी भी करते थे। रवि ने कहा-

    सब कुछ इंटरनेट पर उपलब्ध है। मैं अपने प्रतिद्वंद्वियों के मुकाबलों को देखता हूं और उसी के अनुसार अपनी गेम प्लान तैयार करता हूं। इसी तरह, वे मेरे मुकाबलों को देख रहे होंगे।”

  • जून 2021 में दीपक पुनिया और अंशु मलिक के साथ रवि कुमार दहिया को भारतीय कुश्ती संघ द्वारा अर्जुन पुरस्कार के लिए नामांकित किया गया था। [2]Sportstar
  • रवि कुमार दहिया ओलंपिक पदक विजेता पहलवान योगेश्वर दत्त और सुशील कुमार की तरह दीखते हैं। Ravi Kumar Dahiya with Sushil Kumar
  • अपने ख़ाली समय में रवि कुमार दहिया बास्केटबॉल खेलना पसंद करते हैं। Ravi Kumar Dahiya playing basketball
  • 4 अगस्त 2021 को रवि कुमार दहिया ने फाउल होने के कारण सेमीफाइनल से बहार होकर ओलंपिक फाइनल में प्रवेश करने वाले दूसरे भारतीय पहलवान बनकर इतिहास रच दिया। सुशील कुमार 2012 में लंदन ओलंपिक के फाइनल में पहुंचने वाले पहले भारतीय पहलवान हैं।
  • 4 अगस्त 2021 को कुश्ती मैच के दौरान रवि कुमार ने कजाकिस्तान के पहलवान सनायव को नीचे गिराने की कोशिश कर रहे थे तभी उसने रवि कुमार के हाथ में दांत से काट लिया लेकिन फिर भी रवि कुमार उसे हराकर सेमीफाइनल में अपनी जगह बनाई। घटना का वीडियो वायरल हो गया और रवि को काटने के एक बड़े निशान और दर्द के साथ छोड़ दिया।

  • 5 अगस्त 2021 को रवि कुमार दहिया ने रूस के विश्व चैंपियन ज़ौर उगुएव के खिलाफ 57 किलोग्राम भार वर्ग में अंतिम कुश्ती मैच खेलते हुए 2020 टोक्यो ओलंपिक में उगुएव को हराकर एक और रजत पदक देश के नाम किया। Ravi Kumar Dahiya with his Silver Medal

सन्दर्भ

सन्दर्भ
1 ESPN
2 Sportstar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *