Menu

Indira Gandhi Biography in Hindi | इंदिरा गांधी जीवन परिचय

 

इंदिरा गांधी

विज्ञापन

जीवन परिचय
वास्तविक नाम इंदिरा प्रियदर्शनी गांधी
उपनाम ज्ञात नहीं
व्यवसाय पूर्व भारतीय राजनीतिज्ञ
राजनीतिक पार्टी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी चिन्ह
राजनीतिक यात्रा • वर्ष 1950 के दशक में, उन्होंने भारत के पहले प्रधानमंत्री (पंडित जवाहरलाल नेहरू) की अनौपचारिक रूप से एक निजी सहायक के रूप में सेवा की।
• वर्ष 1950 के दशक के अंत में, उन्होंने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष के रूप में कार्य किया।
• वर्ष 1964 में, उन्हें राज्यसभा के सदस्य के रूप में नियुक्त किया गया और लाल बहादुर शास्त्री की कैबिनेट में सुचना एवं प्रसारण मंत्री के तौर पर कार्य किया।
• वर्ष 1966 में, लाल बहादुर शास्त्री की मृत्यु के बाद उन्हें मोरारजी देसाई की पार्टी के नेता के रूप में नियुक्त किया गया।
• वह जनवरी 1966 से मार्च 1977 तक भारत की प्रधानमंत्री रही थीं।
• वर्ष 1980 में, इंदिरा गांधी फिर से भारत की प्रधानमंत्री बन गईं और अक्टूबर 1984 में उनके सुरक्षा गार्डों द्वारा उनकी हत्या कर दी गई।
शारीरिक संरचना
लम्बाई से० मी०- 163
मी०- 1.63
फीट इन्च- 5’ 4”
आँखों का रंग काला
बालों का रंग धूसर
व्यक्तिगत जीवन
जन्मतिथि 19 नवंबर 1917
जन्मस्थान इलाहाबाद, संयुक्त प्रांत, ब्रिटिश भारत
मृत्यु तिथि31 अक्टूबर 1984
मृत्यु स्थल1 सफदरजंग रोड, नई दिल्ली
मृत्यु का कारणहत्या
आयु (मृत्यु के समय)66 वर्ष
राशि वृश्चिक
हस्ताक्षर इंदिरा गांधी हस्ताक्षर
राष्ट्रीयता भारतीय
गृहनगर इलाहाबाद, भारत
स्कूल/विद्यालय Modern School, Delhi
St. Cecilia's Public School, Delhi
St Mary's Christian Convent School, Allahabad
International School of Geneva
École nouvelle de la Suisse romande, Lausanne, Switzerland
Pupils' Own School in Poona and Bombay
महाविद्यालय/विश्वविद्यालयविश्व भारती महाविद्यालय (पढ़ाई बीच में ही छोड़ दी)
Somerville College, Oxford (पढ़ाई बीच में ही छोड़ दी)
Badminton School, Bristol, England
शैक्षिक योग्यता पढ़ाई बीच में ही छोड़ दी
परिवार पिता - पंडित जवाहरलाल नेहरू (पूर्व भारतीय राजनीतिज्ञ, भारत के पहले प्रधानमंत्री)
पंडित जवाहरलाल नेहरू
माता- कमला नेहरू (स्वतंत्रता सेनानी)
कमला नेहरू
भाई- 1
बहन- कोई नहीं
धर्म हिन्दू
जाति ब्राह्मण
विवाद • जून 1975 में, इलाहाबाद उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति जगमोहनलाल सिन्हा ने उन्हें चुनाव प्रचार के दौरान चुनावी भ्रष्टाचार में दोषी पाया। अदालत ने उन्हें लोकसभा सीट से बहिष्कृत कर दिया और उनके चुनाव को निरस्त कर दिया। साथ ही अगले छह वर्षों तक उनके चुनाव लड़ने पर पूर्णतः प्रतिबंध लगा दिया। इस दौरान उन्हें कई आरोपों में संलिप्त पाया गया जैसे :- राज्य बिजली विभाग से चोरी से बिजली का उपयोग करना, चुनाव अभियान के लिए सरकार की मशीनरी का दुरुपयोग करना तथा मतदाताओं को रिश्वत देना शामिल था। हालांकि, उन्होंने उच्च न्यायालय के फैसले को सर्वोच्च न्यायालय में चुनौती दी, लेकिन न्यायधीश वी. आर. कृष्णा अय्यर ने इस फैसले को बरकरार रखा और उन्होंने आदेश दिया कि उनको सांसद के रूप में मिले सभी विशेषाधिकारों को बंद कर दिया जाए और उन्हें मतदान से बहिष्कृत कर दिया जाए।
• वर्ष 1975 से लेकर 1977 तक इंदिरा गांधी द्वारा घोषित 21 महीनों का आपातकाल काफी विवादों में रहा। इस दौरान सविंधान के अनुच्छेद 352 का उपयोग करते हुए। इंदिरा गांधी ने स्वयं को असाधारण शक्तियां प्रदान कर दी थी। इन शक्तियों का प्रयोग करते हुए, उन्होंने एक बड़े स्तर पर मानवाधिकारों का हनन किया। आपातकाल के नाम पर इंदिरा गांधी ने तकरीबन समूचे विपक्षी दल के नेताओं को भारत के विभिन्न कारागारों में ठूंस दिया था। इस दौरान उनके ऊपर ये भी आरोप लगाया गया कि उन्होंने अपने बेटे संजय गांधी की सलाह पर जनसंख्या नियंत्रण के नाम पर एक बड़े स्तर पर लोगों को जबरदस्ती नपुंसक बनाया।
• वर्ष 1984 में, ऑपरेशन ब्लू स्टार को शुरू किया गया, जहां भिंडरावाला अपने साथियों के साथ हरमंदिर साहिब परिसर / स्वर्ण मंदिर, अमृतसर के भीतर छुपा हुआ था। सूत्रों के अनुसार इस कार्यवाई के दौरान कई जानें हताहत हुई और गुरुद्वारा परिसर को कुछ क्षति पहुँची। जिसके चलते इंदिरा गांधी के खिलाफ रोष उत्पन्न हो गया।
प्रेम संबन्ध एवं अन्य जानकारियां
वैवाहिक स्थिति मृत्यु के समय विधवा
बॉयफ्रैंड्स एवं अन्य मामले M.O. मथाई (पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के निजी सचिव)
इंदिरा गांधी M.O. मथाई के साथ
धीरेंद्र ब्रह्मचारी (योग शिक्षक)
इंदिरा गांधी धीरेंद्र ब्रह्मचारी के साथ
दिनेश सिंह (गणित के प्रोफेसर)
दिनेश सिंह
मोहम्मद यूनुस (भारतीय विदेश सेवा अधिकारी)
इंदिरा गांधी मोहम्मद यूनुस के साथ
फिरोज गांधी
पति फिरोज गांधी (पूर्व भारतीय राजनीतिज्ञ, पत्रकार)
इंदिरा गांधी अपने पति फ़िरोज गांधी के साथ
बच्चे बेटे : राजीव गांधी (पूर्व भारतीय राजनीतिज्ञ)
राजीव गांधी (पूर्व भारतीय राजनीतिज्ञ)
संजय गांधी (पूर्व भारतीय राजनीतिज्ञ)
संजय गांधी (पूर्व भारतीय राजनीतिज्ञ)
बेटी : कोई नहीं

इंदिरा गांधी

विज्ञापन

इंदिरा गांधी से जुड़ी कुछ रोचक जानकारियाँ

  • क्या इंदिरा गांधी धूम्रपान करती थीं ? नहीं
  • क्या इंदिरा गांधी शराब पीती थीं ? ज्ञात नहीं
  • इंदिरा गांधी ने अपना बचपन एकांत में बिताया था क्योंकि बहुत कम उम्र में उनके छोटे भाई की मृत्यु हो गई थी। उनके पिता ज्यादातर अपने राजनीतिक दौरे पर रहते थे, जबकि उनकी माँ तपेदिक बीमारी से पीड़ित रहती थीं, जिनका कुछ समय बाद निधन हो गया था।
  • जब वह यूरोप में थीं, तो अपने खराब सेहत की वजह से काफी चिन्तित रहती थीं, क्योंकि उन्हें देखने के लिए डॉक्टरों का आना-जाना लगा रहता था। वर्ष 1940 के दशक में जब नाजी सेनाओं ने यूरोप पर कब्जा कर लिया था, तब उनका स्विट्जरलैंड में इलाज चल रहा था। हालांकि, उन्होंने इंग्लैंड वापस जाने की बहुत कोशिश की, परन्तु वह असफल रहीं, जिसके चलते उन्हें दो महीने वहीं यूरोप में गुजारने पड़े। आख़िरकार बहुत जद्दोजहद से वर्ष 1941 में, इंग्लैंड आ गई और बाद में वह ऑक्सफोर्ड से पढ़ाई छोड़कर भारत लौट आईं। हालांकि, वर्ष 2010 में ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय ने उन्हें मानद डिग्री से सम्मानित किया और बाद में, उन्हें दस (Oxasians) में से एक के रूप में सम्मानित किया गया, जिन्हे ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के शानदार एशियाई स्नातकों में गिना जाता है।
  • सिर्फ 12 साल की उम्र में, वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल होने के लिए बेहद बेताब थी, लेकिन उसके लिए कम से कम 18 वर्ष की उम्र का होना आवश्यक था।
  • बचपन में उन्होंने अपने मित्रों के साथ मिलकर “बंदर ब्रिगेड” नामक एक समूह बनाया। समूह का नाम एक प्राचीन भारतीय महाकाव्य कविता से प्रेरित था, जहां कई बंदरों (वनार) ने रावण से निपटने के लिए भगवान श्री राम चंद्र जी की मदद की थी। ब्रिगेड का उद्देश्य पुलिस अधिकारियों की जासूसी करना था।
  • आधिकारिक तौर पर वर्ष 1950 के दशक में इंदिरा ने (पंडित जवाहरलाल नेहरू जो स्वतंत्र भारत के पहले प्रधानमंत्री थे) एक निजी सहायक के रूप में कार्य किया, जिसके चलते वह एक राजनीतिज्ञ बन गई। प्रारंभ में, उन्हें राजनीतिक दुनिया में एक “गूंगी गुड़िया” माना जाता था।
  • वर्ष 1950 के दशक में, इंदिरा गांधी का विवाह फिरोज जहांगीर घांदी (जिनका जन्म एक पारसी परिवार में हुआ था) के साथ हुआ। हालांकि, बाद में भारत के प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू के सुझाव पर फिरोज जहांगीर घांदी का नाम बदलकर फिरोज गांधी किया गया। कुछ जानकारों का मानना है कि नेहरू ने यह सुझाव अपनी राजनीतिक छवि को सुरक्षित रखने के लिए किया था।
  • कुछ लोग कहते हैं कि उनके बेटे संजय का जन्म एक राजनीतिज्ञ मोहम्मद यूनुस से हुआ था। संजय इस बात से वाकिफ था और जिसके चलते वह अपनी मां को ब्लैकमेल करता था।
  • वर्ष 1966 में, अपने पिता की मृत्यु के बाद, उन्होंने भारत के प्रधानमंत्री के रूप में कार्यभार ग्रहण किया, इस प्रकार वह राष्ट्र की पहली महिला प्रधानमंत्री बनीं।
  • इंदिरा गांधी के नेतृत्व में वर्ष 1960 के दशक में भारत में हरित क्रांति का उदय हुआ। जिसके चलते देश में कृषि विज्ञान तकनीक का विस्तार हुआ। जिसके कारण कृषि उपज में भारी वृद्धि हुई। इस क्रांति के शुरुआती दौर में, पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों को काफी लाभ प्राप्त हुआ।
  • वर्ष 1971 में, भारत-पाकिस्तान युद्ध हुआ। जिसमें पाकिस्तानी सेना ने समपर्ण कर दिया, जिसके फलस्वरूप इंदिरा गांधी और पाकिस्तानी राष्ट्रपति के मध्य शिमला समझौता हुआ। इस समझौते के तहत कश्मीर विवाद को सुलझाया गया और जिसके कारण बांग्लादेश एक स्वतंत्र राष्ट्र बना।
  • अक्टूबर 1984 में, इंदिरा गांधी को उन्हीं के दो अंगरक्षकों सतवंत सिंह और बेअंत सिंह ने गोली मार कर हत्या कर दी। जिसके बाद भारत में सिख दंगे भड़क उठे।
विज्ञापन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *