Menu

Vasundhara Raje Biography in Hindi | वसुंधरा राजे जीवन परिचय

वसुंधरा राजे

विज्ञापन

जीवन परिचय
वास्तविक नाम वसुंधरा राजे सिंधिया
व्यवसाय भारतीय राजनीतिज्ञ
पार्टी/दल भारतीय जनता पार्टी
भारतीय जनता पार्टी लोगो
राजनीतिक यात्रा • उन्होंने वर्ष 1984 में राजनीति में प्रवेश किया, जिसके चलते उन्हें भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य रूप में नियुक्त किया गया।
• वर्ष 1985 में, वसुंधरा राजे को राजस्थान भाजपा युवा मोर्चा के उपाध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया और उसी वर्ष उन्हें धोलपुर निर्वाचन क्षेत्र से विधायक के रूप में चुना गया था।
• वर्ष 1989 के लोकसभा चुनाव में, उन्हें वर्ष 1991 तक एक सांसद के रूप में चुना गया था।
• वर्ष 1991 के आम चुनाव में, उन्हें झालावार विधानसभा क्षेत्र से पुनः एक सांसद के रूप में चुना गया।
• वर्ष 1998 में, लोकसभा चुनाव में पार्टी से चुने जाने के बाद राजे को विदेश मामलों के राज्य मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया।
• वर्ष 1996 से वर्ष 1998 के बीच, वह झालावार विधानसभा क्षेत्र से एक सांसद रहे।
• वर्ष 1987 में, उन्हें राजस्थान राज्य की भारतीय जनता पार्टी के लिए उपाध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया।
• वर्ष 1998 में, राजे पुनः एक ही निर्वाचन क्षेत्र से निर्वाचित हुईं और वर्ष 1999 तक सांसद रहीं। जिसके चलते उन्होंने केंद्रीय राज्य मंत्री और विदेश मंत्री के रूप में कार्य किया।
• वर्ष 1999 में, राजे पुनः एक सांसद के रूप में निर्वाचित हुईं और जिसके चलते उन्हें 5 वर्षों तक सेवा करने का कार्यभार सौंपा गया।
• वर्ष 2003 में, भाजपा ने उन्हें राजस्थान के मुख्यमंत्री के रूप में नियुक्त किया और इस पद पर वह वर्ष 2008 तक रहीं।
• वर्ष 2013 में, वह पुनः राजस्थान की मुख्यमंत्री बनी।
मुख्य प्रतिद्वंद्वीअशोक गहलोत
शारीरिक संरचना
लम्बाई (लगभग)से० मी०- 163
मी०- 1.63
फीट इन्च- 5’ 4”
वजन/भार (लगभग)77 कि० ग्रा०
आँखों का रंग काला
बालों का रंग काला
व्यक्तिगत जीवन
जन्मतिथि 8 मार्च 1953
आयु (2017 के अनुसार) 64 वर्ष
जन्मस्थान मुंबई, महाराष्ट्र, भारत
राशि मीन
राष्ट्रीयता भारतीय
गृहनगर मुंबई, महाराष्ट्र, भारत
स्कूल/विद्यालय Resentation Convent, Kodaikanal, Tamil Nadu
महाविद्यालय/विश्वविद्यालयसोफिया कॉलेज फॉर विमेन, मुंबई, महाराष्ट्र
शैक्षिक योग्यता अर्थशास्त्र और राजनीति विज्ञान में स्नातक (ऑनर्स)
परिवार पिता- स्वर्गीय जीवाजीराव सिंधिया (ग्वालियर राज्य के पूर्व महाराजा)
स्वर्गीय जीवाजीराव सिंधिया (काल्पनिक चित्र)
माता- स्वर्गीय विजयाराजे सिंधिया (पूर्व भारतीय राजनीतिज्ञ)
भाई- स्वर्गीय माधवराव सिंधिया (पूर्व भारतीय राजनीतिज्ञ)
बहन- स्वर्गीय पद्मा राजे, उषा राजे, स्वर्गीय पद्मवती राजे, यशोधरा राजे सिंधिया (भारतीय राजनीतिज्ञ)
धर्म हिन्दू
जाति मराठा क्षत्रिय
पता मकान नंबर 53, गोदाम तलई, झलावर
विवाद • वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में वसुंधरा और बीजेपी के वरिष्ठ नेता जसवंत सिंह के बीच काफी कहासुनी हुई। इसमें जसवंत सिंह बाड़मेर के लोसकभा क्षेत्र से चुनाव लड़ना चाहते थे, लेकिन वसुंधरा ने उनकी जगह कांग्रेस से आए कर्नल सोनाराम को टिकट दिलवा दी। जिसके परिणामस्वरूप जसवंत सिंह ने बीजेपी पार्टी छोड़ने का फैसला किया।
• वसुंधरा राजे, ललित मोदी की मदद करने के आरोपों में भी घिरी रहीं। वसुंधरा का ललित मोदी के वीजा संबंधी आवेदन पर हस्ताक्षर करना और उनके बेटे दुष्यंत सिंह के द्वारा ललित मोदी के साथ फर्जी कम्पनी के साथ मिलकर करोड़ो रुपयों का गबन करना भी विवादों में रहा। अगस्त 2011 में, वसुंधरा ने ललित मोदी के वीजा संबंधी दस्तावेजों पर सहमति जताई थी और ब्रिटिश अधिकारियों के सामने एक शर्त भी रखी थी कि इस बारे में भारत में किसी को कुछ पता नहीं चलना चाहिए। सूत्रों के मुताबिक जब इन दस्तावेजों का खुलासा किया गया, तो वसुंधरा की मुश्किलें बढ़ती चली गईं। कांग्रेस द्वारा लगातार उनके इस्तीफे की मांग की जाने लगी। हालांकि, पार्टी द्वारा उन्हें क्लीन चिट दे दी गई।
• राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे एक बार फिर ललित मोदी के साथ विवादों में रहीं। उन पर आरोप था कि चम्बल के बीहड़ में बना धौलपुर का महल सरकारी संपत्ति है। जिसे वसुंधरा और ललित मोदी ने मिलकर, एक निजी लग्जरी होटल में बदल दिया है। जिसे धौलपुर में "राज निवास पैलेस" के रूप में जाना जाता है। वसुंधरा द्वारा ललित के साथ राजस्थान की एक फर्जी कम्पनी के साथ मिलकर धौलपुर पैलेस पर अवैध कब्जा किया गया था। जिसके चलते उनके पति हेमंत सिंह ने एक अदालत के समक्ष स्वीकार किया कि यह पैलेस राजस्थान सरकार की संपत्ति है। जिसमें ललित मोदी की फर्जी कम्पनी नियंत हेरिटेज होटल्स ने इस संपत्ति को एक होटल में बदल दिया, जिसमें सौ करोड़ भारतीय रुपए का निवेश किया गया था।
• वर्ष 2013, अगस्तावेस्टलैंड हेलीकाप्टर खरीद घोटाले में वसुंधरा राजे संलिप्त पाई गई। जिसके चलते उन्हें कड़ी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा।
• वसुंधरा राजे ने 28 नवम्बर 2016 में, डायरेक्टर ऑफ़ सिविल एविएशन का एक टेंडर जारी किया। जिसमें उन्होंने एक मिड साइज एयर क्राफ़्ट की मांग की। जिसकी फ्लाइंग रेंज की सीमा दी गई थी। जो सीधे यूरोप तक उड़न भर सके। आमतौर पर ऐसे विमान का इस्तेमाल प्रधानमंत्री भारत यात्रा के दौरान करते हैं। अपनी इस मांग के कारण वह विवादों में रहीं।
• वसुंधरा राजे सिंधिया, उषा राजे सिंधिया, यशोधरा राजे सिंधिया और ज्योतिरादित्यनाथ सिंधिया के बीच एक संपत्ति विवाद कोर्ट में लंबित है।
• फिल्म पद्मावत को राजस्थान में प्रतिबंधित करने के लिए भी वह विवादों में रहीं।
पसंदीदा चीजें
पसंदीदा राजनीतिज्ञ नरेंद्र मोदी
प्रेम संबन्ध एवं अन्य जानकारियां
वैवाहिक स्थिति तलाकशुदा
पतिहेमंत सिंह (विवाह तिथि 1972-1974)
वसुंधरा राजे के पति हेमंत सिंह
विवाह तिथिवर्ष 1972
बच्चे पुत्र - दुष्यंत सिंह (भारतीय राजनीतिज्ञ)
वसुंधरा राजे अपने बेटे दुष्यंत सिंह के साथ
पुत्री- कोई नहीं
धन संबंधित विवरण
वेतन (मुख्यमंत्री के रूप में) लगभग55000 भारतीय रुपए + (अन्य भत्ते)
संपत्ति (लगभग)4 करोड़ भारतीय रुपए

वसुंधरा राजे

विज्ञापन

वसुंधरा राजे से जुड़ी कुछ रोचक जानकारियाँ

  • क्या वसुंधरा राजे धूम्रपान करती हैं ? ज्ञात नहीं
  • क्या वसुंधरा राजे शराब पीती हैं ? हाँ
  • वसुंधरा राजे एक शाही परिवार से संबंधित हैं, उनके पिता स्वर्गीय जीवाजीराव सिंधिया ग्वालियर के महाराजा थे।
  • शाही वातावरण के कारण वह सार्वजनिक सेवा और राजनीति से काफी परिचित हो गई थीं। जो वह हमेशा से ही चाहती थीं।
  • वर्ष 1985 में, उन्हें राजस्थान की भारतीय जनता पार्टी के युवा मोर्चे के उपाध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया, जिस पर उन्होंने वर्ष 1987 तक कार्य किया।
  • वर्ष 2003 के बाद, भारतीय जनता पार्टी ने उन्हें राजस्थान विंग के अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया।
  • वसुंधरा राजे दिसंबर 2003 में राजस्थान की पहली महिला मुख्यमंत्री बनीं।
  • वर्ष 2008 में सरकार के भंग होने पर, भाजपा ने उन्हें राजस्थान विधान सभा में विपक्ष के नेता के रूप में नियुक्त किया।
  • वर्ष 2007 में, संयुक्त राष्ट्र द्वारा स्वयं-सशक्तिकरण के अंतर्गत महिलाओं की सहायता के प्रयास के लिए उन्हें “Women Together Award” पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
  • वर्ष 2013 में, वह पुनः राजस्थान की मुख्यमंत्री बनीं।
विज्ञापन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *