Menu

Jeetendra Biography in Hindi | जितेन्द्र जीवन परिचय

जितेन्द्र

विज्ञापन

जीवन परिचय
वास्तविक नाम रवि कपूर
उपनाम जम्पिंग जैक और जीतू
व्यवसाय अभिनेता
शारीरिक संरचना
लम्बाई (लगभग)से० मी०- 175
मी०- 1.75
फीट इन्च- 5’ 9”
वजन/भार (लगभग)72 कि० ग्रा०
आँखों का रंग गहरा भूरा
बालों का रंग काला
व्यक्तिगत जीवन
जन्मतिथि 7 अप्रैल 1942
आयु (2017 के अनुसार)75 वर्ष
जन्मस्थान अमृतसर, पंजाब, भारत
राशि मेष
राष्ट्रीयता भारतीय
गृहनगर अमृतसर, पंजाब, भारत
स्कूल/विद्यालय सेंट सेबस्टियन गोयन हाई स्कूल, गिरगांव, मुंबई
महाविद्यालय/विश्वविद्यालयसिद्धार्थ महाविद्यालय, मुंबई
के.सी. महाविद्यालय, चर्चगेट, मुंबई
शैक्षिक योग्यता स्नातक
डेब्यू फिल्म (अभिनेता) - गीत गाया पत्थरों ने (1964)
गीत गाया पत्थरों ने (1964)
परिवार पिता - अमरनाथ कपूर
माता- कृष्णा कपूर
भाई- प्रसन कपूर
जितेंद्र (दाईं ओर) अपने भाई (बाईं ओर) और माँ के साथ
बहन- कोई नहीं
धर्म हिन्दू
विवाद 7 फरवरी 2018 को, उनके चचेरी बहन ने उनके खिलाफ एक शिकायत दर्ज की, जिसमें उन्होंने जितेंद्र पर वर्ष 1971 में शिमला के होटल में छेड़छाड़ का आरोप लगाया।
शौक/अभिरुचिनृत्य करना, संगीत सुनना
पसंदीदा चीजें
पसंदीदा भोजन मछली और डोसा
प्रेम संबन्ध एवं अन्य
वैवाहिक स्थिति विवाहित
गर्लफ्रेंड व अन्य मामले हेमा मालिनी (अभिनेत्री)
जितेंद्र हेमा मालिनी के साथ
पत्नीशोभा कपूर (टीवी और फिल्म निर्माता)
जितेंद्र अपनी पत्नी शोभा कपूर के साथ
बच्चे बेटी - एकता कपूर (फिल्म निर्माता)
जितेंद्र अपनी बेटी एकता कपूर के साथ
बेटा - तुषार कपूर (अभिनेता)
जितेंद्र अपने बेटे तुषार कपूर के साथ
कुल सम्पति (लगभग)₹165 अरब

जितेन्द्र

जितेन्द्र से जुड़ी कुछ रोचक जानकारियाँ

  • क्या जितेन्द्र धूम्रपान करते हैं ? ज्ञात नहीं
  • क्या जितेन्द्र शराब पीते हैं ? ज्ञात नहीं
  • जितेन्द्र फिल्म उद्योग में अपने नृत्य के लिए काफी प्रसिद्ध हैं।
  • जितेन्द्र स्वर्गीय दिग्गज अभिनेता राजेश खन्ना के स्कूली सहपाठी थे। दिलचस्प बात यह है कि दोनों ने एक ही कॉलेज से स्नातक की डिग्री “के.सी. कॉलेज, चर्चगेट” पूरी की थी। जितेन्द्र और राजेश खन्ना
  • जितेन्द्र के माता-पिता नकली गहने का व्यापार करते थे। एक बार जब वह निर्देशक वी. शांताराम को गहने की आपूर्ति करने गए थे, तब वह जितेन्द्र की खूबसूरती से काफी प्रभावित हुए, जिसके चलते निर्देशक ने उन्हें वर्ष 1959 के प्रोजेक्ट नवरंग में अभिनेत्री संध्या के साथ अभिनय करने के की पेशकश की। निर्देशक वी. शांताराम
  • वी. शांताराम ने उन्हें वर्ष 1964 की फिल्म “गीत गाया पत्थरों ने” में बेहरतरीन अभिनेता के रूप में भी शामिल किया। वह शांताराम ही थे जिन्होंने उनका स्क्रीन नाम जितेंद्र रखा।
  • उनकी फिल्म “गीत गाया पत्थरों ने” बॉक्स ऑफिस पर फ्लॉप रही थी। जिसके चलते जितेन्द्र को कोई सफलता नहीं मिली। इसके बाद जितेंद्र ने वर्ष 1967 में फिल्म “spy thriller Farz” में अभिनय किया। जो उनके लिए एक हिट फिल्म साबित हुई।
  • जितेन्द्र ने फिल्म फ़र्ज के एक गीत “मस्त बहारों का मैं आशिक” में बहुत ही ऊर्जावान और उत्साही नृत्य किया है, जिसके चलते उन्हें “जंपिंग जैक” उपनाम दिया गया।

विज्ञापन
  • वर्ष 1984 में फिल्म “मकसद” में जितेन्द्र और राजेश खन्ना ने एक साथ कार्य किया। जिसमें जया प्रदा और श्रीदेवी अग्रणी अभिनेत्री थीं, लेकिन वे दोनों एक दूसरे से बोलती नहीं थीं। उन्हें एक करने के लिए राजेश खन्ना और जितेन्द्र ने दोनों को एक कमरे में बंद कर दिया, ये उम्मीद करते हुए कि वे आपसी मनमुटाव को छोड़कर दोस्त बन जाएंगी। परन्तु, ऐसा नहीं हुआ कमरा खोलने पर दोनों एक दूसरे की विपरीत दिशा में बैठी हुई थीं। फिल्म "मकसद"
  • 70 के दशक में, जितेन्द्र और हेमा एक दूसरे के प्रेम में पड़ गए। हेमा ने अपनी आत्मकथा में दावा किया कि वह जितेंद्र से शादी करने वाली थीं, परन्तु किसी कारणवश शादी नहीं हो पाई।
  • अभिनेता संजीव कुमार हेमा मालिनी के प्यार में पड़ गए। उन्होंने हेमा मालिनी से प्रेम संबंध बनाने के लिए जितेंद्र का सहारा लिया। लेकिन हेमा संजीव कुमार की जगह जितेंद्र से प्यार करने लगीं।
  • जितेंद्र का एक बेटा और बेटी है। बेटा तुषार कपूर अभिनेता है, जबकि बेटी एकता कपूर बालाजी टेलीफिल्म की मालकिन है।
  • जितेंद्र सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविजन पर प्रसारित होने वाले एक भारतीय नृत्य प्रतियोगिता “झलक दिखला जा सीजन-2” के जज थे।
  • वर्ष 2014 में, जितेन्द्र को दादा साहब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। जितेन्द्र दादा साहब फाल्के पुरस्कार ग्रहण करते हुए
विज्ञापन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *