Menu

Bhayyuji Maharaj Biography in Hindi | भय्यूजी महाराज जीवन परिचय

भय्यूजी महाराज

विज्ञापन

जीवन परिचय
वास्तविक नाम उदय सिंह देशमुख
उपनाम भय्यूजी महाराज, युवा राष्ट्र संत
व्यवसाय आध्यात्मिक गुरु
प्रसिद्ध हैं वर्ष 2011 में सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे और सरकार के बीच मध्यस्थ होने के नाते।
शारीरिक संरचना
लम्बाई (लगभग)से० मी०- 175
मी०- 1.75
फीट इन्च- 5’ 9"
वजन/भार (लगभग)70 कि० ग्रा०
आँखों का रंग गहरा भूरा
बालों का रंग काला
व्यक्तिगत जीवन
जन्मतिथि 29 अप्रैल 1968
जन्मस्थान शुजलपुर, मध्य प्रदेश, भारत
मृत्यु तिथि 12 जून 2018
आयु (मृत्यु के समय तक)50 वर्ष
मृत्यु स्थल बॉम्बे अस्पताल, इंदौर में
मृत्यु कारण आत्महत्या
राशि वृषभ
राष्ट्रीयता भारतीय
गृहनगर इंदौर, मध्य प्रदेश, भारत
शैक्षणिक योग्यता विज्ञान में स्नातक
धर्म हिन्दू
जातीयता मराठी
खाद्य आदत शाकाहारी
राजनीतिक पार्टी भारतीय जनता पार्टी
पता सिल्वर स्प्रिंग क्लब हाउस, इंदौर
शौक/अभिरुचियोगा करना
विवाद भय्यूजी महाराज की दूसरी शादी से पहले मल्लिका राजपूत नामक एक अभिनेत्री/लेखक ने उन पर सनसनीखेज आरोप लगाते हुए कहा कि "भय्यूजी महाराज धोखेबाज, चालबाज हैं। मैंने कड़ी मेहनत करके उनके जीवन पर एक किताब लिखी, जिसकी 950 प्रतियां दो-ढाई साल से उनके पास हैं, जिसे वह ना रिलीज कर रहे हैं ना वापस कर रहे हैं। मल्लिका के आरोपों के बाद भय्यूजी महाराज ने कहा कि "मुझ पर बेबुनियाद आरोप लगाए जा रहे हैं और मल्लिका राजपूत एक फ्रॉड महिला हैं और झूठे आरोप लगा रही है।"
भय्यूजी महाराज की शादी से पहले मल्लिका राजपूत का फेसबुक पोस्ट
प्रेम संबन्ध एवं अन्य जानकारियां
वैवाहिक स्थिति विवाहित
विवाह तिथि 30 अप्रैल 2017 (आयुषी शर्मा के साथ)
विवाह स्थल इंदौर (आयुषी शर्मा के साथ)
भैय्यूजी महाराज और आयुषी शर्मा विवाह की तस्वीर
परिवार
पत्नीपहली पत्नी - माधवी (वर्ष 2015 में मृत्यु)
भैय्यूजी महाराज की पहली पत्नी माधवी
दूसरी पत्नी - आयुषी शर्मा (चिकित्सक)
भैय्यूजी महाराज अपनी दूसरी पत्नी आयुषी शर्मा के साथ
बच्चे बेटा - कोई नहीं
बेटी - कुहू (जन्म वर्ष 2002 में)
भैय्यूजी महाराज अपनी बेटी कुहू के साथ
माता-पिता पिता - विश्वास राव देशमुख
माता - कुमुदीनी देवी
भैय्यूजी महाराज के माता-पिता
भाई-बहन भाई - कोई नहीं
बहन - 2
पसंदीदा चीजें
पसंदीदा रंग श्वेत
धन संबंधित विवरण
कार संग्रह मर्सिडीज एसयूवी

भय्यूजी महाराज

विज्ञापन

भय्यूजी महाराज से जुड़ी कुछ रोचक जानकारियाँ

  • क्या भय्यूजी महाराज धूम्रपान करते थे ?: नहीं
  • क्या भय्यूजी महाराज शराब पीते थे ?: नहीं
  • भय्यूजी महाराज का जन्म एक किसान परिवार में हुआ था।
  • अपने कॉलेज की पढ़ाई पूरी करने के बाद, उन्होंने विभिन्न प्रकार की छोटे दर्जे की नौकरियां कीं और उसके बाद उन्होंने महिंद्रा सीमेंट संयंत्र में एक परियोजना अभियंता के रूप में कार्य करना शुरू किया।
  • उनकी माँ चाहती थी कि वह लोक सेवा परीक्षा उत्तीर्ण करें।
  • कुछ अतिरिक्त पैसे कमाने के लिए उन्होंने ‘सियाराम सूटिंग’ के लिए अंशकालिक मॉडल के रूप में कार्य किया था।
  • चूंकि वह भगवान दत्तात्रेय के प्रबल भक्त थे, इसलिए उन्हें अक्सर “युवा राष्ट्र संत” भी कहा जाता था।

    भय्यूजी महाराज और भगवान दत्तात्रेय

    भय्यूजी महाराज और भगवान दत्तात्रेय

  • भय्यूजी महाराज राजनीति के संपर्क में तब आए जब वह अनिल देशमुख के द्वारा महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री विलासराव देशमुख से जुड़े, जिसके बाद उन्होंने मराठा क्षेत्रों में कांग्रेस के लिए मतदाता आधार बढ़ाने के लिए एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। हालांकि, अपने जीवन के उत्तरार्ध में वह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत के काफी करीबी रहे थे और उन्हें शिवराज सिंह चौहान सरकार द्वारा मध्यप्रदेश में मंत्री पद की पेशकश भी की गई थी।

    भय्यूजी महाराज और मोहन भागवत

    भय्यूजी महाराज और मोहन भागवत

  • उन्होंने श्री सद्गुरु दत्ता धर्मिक एवं परमार्थिक ट्रस्ट, सूर्योदय आश्रम जैसे संस्थानों की स्थापना की थी, जो मुख्य रूप से महाराष्ट्र के ग्रामीण इलाकों में सक्रिय है। भय्यूजी महाराज की संस्था द्वारा सामाजिक कार्य
  • उन्हें वर्ष 2011 के लोकपाल आंदोलन के समय राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता मिली थी, जब वह यूपीए सरकार और अन्ना हजारे के बीच मध्यस्थ बन गए थे। भय्यूजी महाराज अन्ना हजारे के साथ
  • वर्ष 2016 में, उन्होंने सार्वजनिक जीवन से “सन्यास” लेने के लिए अपनी सेवानिवृत्ति की घोषणा की थी, लेकिन उनकी मां और बहनों ने उन्हें फिर से शादी करने के लिए आश्वस्त किया।
  • 12 जून 2018 को, करीब 12:15 बजे, उन्होंने इंदौर में अपने निवास स्थान पर स्वयं को गोली मार ली, जिसके बाद उन्हें इंदौर के बॉम्बे अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। उनकी मृत्यु के बाद एक सुसाइड नोट बरामद हुआ, जिसने संकेत दिया कि वह मानसिक रूप से तनाव में थे। भय्यूजी महाराज सुसाइड नोट
विज्ञापन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *