Menu

Swapna Barman Biography in Hindi | स्वप्ना बर्मन जीवन परिचय

स्वप्ना बर्मन

विज्ञापन

जीवन परिचय
वास्तविक नाम स्वप्ना बर्मन
व्यवसाय एथलीट
प्रसिद्ध हैंएशियन खेल 2018 में स्वर्ण पदक जीतने के लिए
स्वप्ना बर्मन एशियन खेल 2018 में स्वर्ण पदक जीतने पर
शारीरिक संरचना
लम्बाई (लगभग)से० मी०- 160
मी०- 1.60
फीट इन्च- 5' 3”
वजन/भार (लगभग)50 कि० ग्रा०
आँखों का रंग काला
बालों का रंग काला
एथलेटिक्स
इवेंट Heptathlon
कोच/संरक्षकसुभाष सरकार
स्वप्ना बर्मन अपने कोच के साथ
व्यक्तिगत जीवन
जन्मतिथि 29 अक्टूबर 1996
आयु (वर्ष 2017 के अनुसार)21 वर्ष
जन्मस्थान जलपाईगुड़ी, पश्चिम बंगाल
राशि वृश्चिक
राष्ट्रीयता भारतीय
गृहनगर घोस्पारा गांव, जलपाईगुड़ी, पश्चिम बंगाल
धर्म हिन्दू
प्रेम संबन्ध एवं अन्य जानकारियां
वैवाहिक स्थिति अविवाहित
परिवार
पति कोई नहीं
माता-पिता पिता - पंचानन बर्मन (रिक्शा चालक)
माता - बसाना (चाय एस्टेट में श्रमिक)
स्वपना बर्मन का परिवार
भाई-बहन 4 (नाम ज्ञात नहीं)
पसंदीदा चीजें
पसंदीदा एथलीटउसेन बोल्ट
पसंदीदा संगीतकार लता मंगेशकर

स्वप्ना बर्मन

स्वप्ना बर्मन से जुड़ी कुछ रोचक जानकारियाँ

  • क्या स्वप्ना बर्मन धूम्रपान करती हैं ? नहीं
  • क्या स्वप्ना बर्मन शराब पीती हैं ? नहीं
  • स्वप्ना एक गरीब परिवार से संबंधित है, वर्ष 2013 में, उनके पिता को एक घातक स्ट्रोक का सामना करना पड़ा। जिसके चलते उनके परिवार पर वित्तीय संकट रहने लगा।
  • कहा जाता है कि उनके प्रत्येक पैर में 6 अंगुलियां हैं और जिसके कारण उन्हें दौड़ने में काफी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। परिणामस्वरूप, वह सहज रूप से दौड़ने के लिए जूते खरीदने में भी असमर्थ है। स्वप्ना बर्मन के दोनों पैरों की 12 अंगुलियां
  • स्वप्ना का घर उनके द्वारा अर्जित पुरस्कार राशि के माध्यम से चलता है।
  • उन्हें ‘राहुल द्रविड़ एथलीट मेन्टरशिप प्रोग्राम’ के माध्यम से ‘गोस्पोर्ट्स फाउंडेशन’ द्वारा प्रायोजित किया गया था और नियमित सहायता के रूप में ओएनजीसी द्वारा वित्तीय सहायता भी प्रदान की गई थी।
  • उनके जीवन की सफलता एथलेटिक्स में थी, जिसके चलते उन्हें वर्ष 2016 में ₹1.5 लाख की छात्रवृत्ति दी गई थी।
  • स्वप्ना ने भुवनेश्वर के कलिंग स्टेडियम में आयोजित 2017 एशियाई एथलेटिक्स चैंपियनशिप में हेप्टाथलॉन में पहला स्थान प्राप्त किया था।

विज्ञापन
  • वर्ष 2017 एशियाई एथलेटिक्स चैम्पियनशिप के दौरान, स्वप्ना 800 मीटर के अंतिम राउंड के समय बेहोश हो गई थीं, जिसके बावजूद वह चौथे स्थान पर रही थीं।
  • वर्ष 2017 में, उन्होंने पटियाला फेडरेशन कप में स्वर्ण पदक जीता। कहा जाता है कि एथलीट में उन्होंने कई रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं।
  • वर्ष 2018 में, इंडोनेशिया, जकार्ता में आयोजित एशियाई खेलों में, स्वप्ना ने महिलाओं की श्रेणी हेप्टाथलॉन में स्वर्ण पदक (100 मीटर, हाई जंप, 200 मीटर, शॉट पुट, जवेलिन थ्रो, लांग जंप, और 800 मीटर) जीता। जिसके चलते वह एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय हेप्टाथलीट बनीं।

  • देश भर में उनकी काफी सराहना की गई कि दांतों के दर्द के बावजूद उन्होंने स्वर्ण पदक जीता।

    स्वप्ना एशियन खेलों के दौरान

    स्वप्ना एशियन खेलों के दौरान

  • स्वप्ना की जीत के बाद उनके परिवार ने बड़ी धूमधाम से जीत का जश्न मनाया। एशियाई खेलों में हेप्टाथलॉन में पश्चिम बंगाल से पहली बार स्वर्ण पदक जीतने की ख़ुशी में हर कोई घोस्पारा (स्वप्ना का गांव) में मिठाई वितरित करने लगा।

  • यहां तक कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एशियन खेलों में हेप्टाथलॉन में स्वर्ण पदक लाने के लिए स्वप्ना को बधाई दी।

  • उन्होंने कोलकाता स्थित ‘स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया कैंपस’ से प्रशिक्षण प्राप्त किया है।
विज्ञापन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *